DA Image
19 सितम्बर, 2020|8:55|IST

अगली स्टोरी

बस ऑनर्स एसोसिएशन की बैठक में चर्चा

default image

बस ऑनर्स एसोसिएशन की बैठक 31 अगस्त को स्थानीय बस स्टैंड परिसर में हुई। अध्यक्षता एसोसिएशन अध्यक्ष धर्मेंद्र यादव और संचालन महासचिव मनोज सहाय पिंकू ने किया। अध्यक्ष धर्मेंद्र यादव ने कहा कि सरकारी आदेश पर ही लॉकडाउन में बसे बंद रही,तो टैक्स माफी का आदेश भी केंद्र सरकार को ही देनी होगी। पिछले छह महीने से कई गाड़ियों के कागजात भी दुरुस्त नहीं रहे होंगे। यदि बिना कागजात के बस चलाएंगे, तो परिवहन विभाग के लोग बसों पर शिकंजा कसेंगे। किराया निर्धारित नहीं होने पर पैसेंजर और बस के अन्य स्टॉफ के साथ हमेशा नोकझोंक की स्थिति बनी रहेगी। पहले सरकार अपना स्टैंड क्लियर करें उसके बाद बस परिचालन के लिए घोषणा करें। महासचिव मनोज सहाय पिंकू ने कहा कि हम सरकार को सहयोग करने के लिए तैयार हैं,पर सरकार को भी बस मालिक के पक्ष पर गौर करने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि सरकार के टर्म कंडीशन के अनुसार बस का परिचालन संभव नहीं है। सरकारी निर्देशानुसार 52 सीट की बसों को 26 सवारी और 40 सीट की बसों को 20 सवारी लेकर चलना है अर्थात एक सवारी से 2 सीट का भाड़ा लेना होगा। संतोष यादव ने कहा कि पहले डीजल का दाम 60 रु.लीटर था,अब 80 रु.लीटर हो गया है,जिसे परिवहन खर्च बढ़ेगा। जबकि कोडरमा स्टेशन पर ट्रेनों के परिचालन पर ही सवारी निर्भर करती है। सचिव मनीष चौधरी,अशोक यादव,बैजू यादव ने कहा कि यदि सरकार अपना स्टैंड क्लियर नहीं करती है,तो झारखंड बस ऑनर्स एसोसिएशन ने जो निर्णय लिया है कि 15 सितंबर के बाद हम लोग बेमियादी हड़ताल पर चले जाएंगे,बाध्य होकर हम सब को भी राज्य बस ओनर्स एसोसिएशन के गाइडलाइन को फॉलो करना होगा। वाहन मालिकों ने कहा कि सरकार एरोप्लेन,रेलवे की तरह बसों को भी निजीकरण करने की साजिश रच रही है। बैठक में अध्यक्ष धर्मेंद्र यादव,उपाध्यक्ष सन्नी कृष्णा, अजय कुमार यादव,सुबोध कुमार,मुकेश चंद्रवंशी,मनीष चौधरी,मोहन यादव,बैजू यादव,संजय यादव, अशोक यादव,संतोष कुमार यादव,रोहित यादव,कर्मवीर कुमार आदि मौजूद थे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Discussion in bus honors association meeting