DA Image
23 सितम्बर, 2020|6:47|IST

अगली स्टोरी

देश की राष्ट्रीय संपदा को देशी-विदेशी कारपोरेट घरानों के हवाले करने की हो रही साजिश: वृंदा करात

default image

सीपीएम राज्य सचिवमंडल की ऑनलाइन वर्चुअल बैठक 31 अगस्त को पार्टी के वरीय नेता सह जिला प्रभारी रामचंद्र ठाकुर की अध्यक्षता में हुई। बैठक में राज्य और केन्द्र के पार्टी प्रभारी सचिव प्रकाश विप्लव ने पार्टी गतिविधियों की रिपोर्ट करते हुए कहा कि जन मुद्दों पर पार्टी द्वारा चलाए गए देशव्यापी जन अभियान में झारखंड की जनता का भरपूर समर्थन मिला। इस पर पार्टी नेताओं ने अपना-अपना अनुभव साझा किया और अभियान में जनता से प्राप्त समस्याओं पर आंदोलन तेज करने का निर्णय लिया। साथ ही मोदी सरकार की मजदूर किसान विरोधी नीतियों के खिलाफ 5 सितंबर को मजदूर किसान दिवस को सफल बनाने का आह्वान किया। पार्टी की झारखंड प्रभारी सह पोलित ब्यूरो सदस्य बृंदा करात ने कहा कि पहले से ही केंद्र की जनविरोधी कॉरपोरेट परस्त नीतियों के कारण देश की अर्थव्यवस्था खराब है। प्रधानमंत्री मोदी द्वारा अचानक बिना तैयारी के एकतरफा घोषित लॉकडाउन देश में कोरोना वायरस संक्रमण को रोकने में बेअसर साबित हुआ है। दूसरी तरफ कोरोना की आड़ में आत्मनिर्भर भारत का जुमला उछाल कर देश की राष्ट्रीय संपदा को देशी-विदेशी कारपोरेट घरानों के हवाले करने की साजिश कर रही है। इसके कारण देश में गरीबी,भूखमरी और बेकारी तेजी से बढ़ रहा है। इन परिस्थितियों में आमजनों को एकजुट होकर लड़ाई लड़ना होगा। कोडरमा से प्रतिनिधित्व करते हुए राज्य सचिवमंडल सदस्य संजय पासवान ने कहा कि महामारी के दौर में गरीब,मध्यम वर्ग का जीना मुश्किल हो गया है। प्रवासी मजदरों को काम नहीं मिल रहा है। अभी भी सैकड़ों गरीब परिवार राशन कार्ड से वंचित है। बैठक में केंद्रीय कमेटी सदस्य अमियो पात्रा और राज्य सचिव गोपिकांत बक्सी ने भी मार्ग दर्शन किया। ऑनलाइन बैठक में सुरजीत सिन्हा,मो. इकबाल,प्रफ़ुल्ल लिंडा,सुफल महतो,समीर दास,सुखनाथ लोहरा,एहतेशाम अहमद आदि शामिल थे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Conspiracy to handover the national wealth of the country to Indian and foreign corporate houses Brinda Karat