DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्रशासन ने मासस व झामुमो के बीच कराया समझौता

निरसा राजा कोलियरी कार्यालय के समीप मैदान स्थित क्लब में मासस का लगे झंडे पर पुलिस व ईसीएल प्रबंधन ने गंभीरता से लिया। रविवार की सुबह करीब 10 बजे पुलिस व ईसीएल मुगमा क्षेत्रीय सिक्यूरिटी टीम ने क्लब पर लगे झंडे को उतरवाया और ताला को खोलवाया। सिक्यूरिटी टीम ने अपना ताला लगाकर ईसीएल प्रबंधन को चाभी सौंप कर कार्यालय को मुक्त कराया।

बतादें कि झारखंड मुक्ति मोर्चा के नेता अशोक मंडल ने झामुमो कार्यालय (क्लब) का ताला खुलवाने की मांग की थी।

विधायक अरूप चटर्जी के साला चिनु घोष को झामुमो समर्थकों द्वारा पिटाई करने से आक्रोशित मासस समर्थकों ने झामुमो कार्यालय (क्लब) में तोड़फोड़ की थी। ईसीएल मुगमा के जीएम सदानंद सुमन ने बताया कि विधि व्यवस्था बनाए रखने के लिए प्रबंधन ताला लगा दिया। मासस समर्थकों का कहना था कि क्लब में लगा मासस झंडा को शनिवार की रात स्वयं उतार लिया गया था।

माहौल बिगड़ा तो दोनों पार्टियों के 50-50 कार्यकर्ताओं पर होगा 107 :

निरसा विधायक अरूप चटर्जी के साले के साथ मारपीट की घटना को लेकर मासस व झामुमो के बीच तनाव की स्थिति उत्पन्न हो गयी थी। प्रशासन ने रविवार की दोपहर निरसा थाना में विधायक अरूप चटर्जी व झामुमो नेता अशोक मंडल की उपस्थिति में दोनों के समर्थकों के साथ समझौता कराया। अध्यक्षता डीएसपी रामचंद्र राम ने की। समझौता के दौरान गहमगहमी बनी रही। मासस व झामुमो समर्थकों ने एक दूसरे पर आरोपों की बौछार लगाई। डीएसपी ने दोनों पाटियों के समर्थकों को चेतावनी देते हुए कहा कि अगर माहौल को बिगड़ाने की कोशिश की गयी तो दोनों पार्टिंयों के पचास-पचास समर्थकों पर धारा 107 की कार्रवाई की जाएगी। डीएसपी ने कहा कि इस मामले को लेकर कोई भी जुलूस, धरना व प्रदर्शन नहीं करेगा। सभी शांति बनाए रखें।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Governance agreement between M / s and JMM