DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बीपीओ के खिलाफ खोला मोर्चा

प्रखंड भवन के सभागार में प्रमुख अंजना हेम्ब्रम की अध्यक्षता मे पंचायत समिति की बैठक हुई। बैठक मे पहुंचे पंचायत समिति के सदस्यों ने मनरेगा के बीपीओ रसिक हेम्ब्रम की कार्यशैली की शिकायत की। जनप्रतिनिधियों ने आरोप लगाया कि मनरेगा में जो मजदूर कार्य करता है। उसे भुगतान करने की बजाए अन्य मजदूर के बैंक खाता में पैसा भेज दिया जाता है। प्रखंड क्षेत्र में पीएम आवास में मजदूरों के खाते में 15000 की जगह मात्र 5000 रुपए का भुगतान होता है। जिसमें सामान के आपूर्तिकर्ता ही बकाये रकम को काटकर भुगतान कराते है। यह बीपीओ के मिलीभगत से हो रहा है। इसके अलावा बीपीओ पर कुछ दिन पूर्व ही एक बकरी शेड में दो बार एफटीओ करने का मामला प्रकाश में आया था। पर अभी तक इसमें कोई करवाई नहीं हुई। जिसपर बीडीओ ने कहा कि सर्वर डाउन होने के कारण ऐसा हुआ था। पैसों की रिकवरी हो चुकी है। इधर उपप्रमुख दलगोबिंद रजक ने प्रखंड परिसर मे लैम्प्स नहीं होने के कारण किसानों को बीज व अन्य सामग्री नहीं मिल पा रही है। बिरसा मुंडा आम बागवानी को लेकर प्रमुख प्रशंसा करते हुए कहा कि यह मनरेगा की सबसे महत्वपूर्ण योजना है। इसका रखरखाव होना अनिवार्य है। बैठक में प्रखंड विकास पदाधिकारी महेश्वरी प्रसाद यादव उप प्रमुख दल गोविंद रजक ,कृषि पदाधिकारी हरिपद रविदास, प्रखंड कल्याण विभाग से लखीराम कॉल, मुखिया लखविंदर मुर्मू पंचायत समिति सदस्य अताउल अंसारी बेबी देवी लुटलाल गोप जेई आदि उपस्थित थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Front opened against BPO