ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ झारखंड जमशेदपुरकुड़मी समाज की चेतावनी, 20 सितंबर से रेल चक्का जाम

कुड़मी समाज की चेतावनी, 20 सितंबर से रेल चक्का जाम

फोटो--कुड़मी धरना जमशेदपुर, मुख्य संवाददाता। टोटेमिक कुरमी और कुड़मी समाज ने चेतावनी...

कुड़मी समाज की चेतावनी, 20 सितंबर से रेल चक्का जाम
Newswrapहिन्दुस्तान टीम,जमशेदपुरSun, 14 Aug 2022 02:00 AM
ऐप पर पढ़ें

टोटेमिक कुरमी और कुड़मी समाज ने चेतावनी दी कि यदि उन्हें आदिवासी सूची में शामिल नहीं किया गया तो वे 20 सितंबर से झारखंड में रेल चक्का जाम करेंगे। उन्होंने अपनी इस चेतावनी से शुक्रवार को उपायुक्त को अवगत करा दिया। डीसी ऑफिस के सामने धरना देने के बाद उन्होने उपायुक्त को जो ज्ञापन सौंपा है, उसमें इसका उल्लेख किया गया है।

ज्ञापन में बताया गया कि आजादी से पहले कुड़मी जाति आदिम जनजाति सूची में शामिल थी। परंतु 15 फरवरी 1951 में अनुसूचित जनजाति की जो सूची तैयार हुई, उसमें से कुड़मी को निकाल दिया गया। तब हृदयनाथ कुंजरू ने संसद में सवाल उठाया था जिस पर तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने भूलवश छूट जाने की बात कही थी। और भूल सुधारने का आश्वासन दिया था। परंतु 72 साल बाद भी इसमें सुधार नहीं किए जाने पर अफसोस जताया गया है और उपायुक्त से अनुरोध किया है कि वे उनकी मांग से राज्य सरकार को अवगत करा दें। धरना प्रदर्शन में सुमित महतो, फनी महतो, सपन महतो, बिनय महतो, पद्म लोचन महतो, मानिक महतो सहित समाज के अन्य लोग शामिल हुए।

epaper