DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

टाटा वर्कर्स यूनियन विवाद ने टाटा स्टील में रोकी ग्रेड वार्ता की रफ्तार

टाटा वर्कर्स यूनियन की राजनीति में एक बार फिर कर्मचारी हितों की तिलांजलि दे दी गई है। पिछले 18 मई को यूनियन कार्यालय में हुए विवाद के बाद टाटा स्टील में ग्रेड रिवीजन की वार्ता पटरी से उतरती दिख रही है। सूत्रों का कहना है कि वर्तमान में ग्रेड रिवीजन पर वार्ता बेहद निर्णायक मोड़ पर पहुंच रही थी। ऐन वक्त पर यूनियन परिसर में पैदा हुए विवाद ने जल्द ग्रेड की आस लगाये बैठे साढ़े तेरह हजार कर्मचारियों के उम्मीदों पर पानी फेर दिया है। टाटा स्टील में ग्रेड पर वार्ता अवधि व एमजीबी तक पहुंच गयी थी। प्रबंधन के प्रस्ताव के बाद यूनियन नेतृत्व मंथन-मनन में जुटा था। ठीक इसी समय पैदा हुए नये विवाद ने यूनियन के कामकाज को दूसरी दिशा में मोड़ दिया। ग्रेड रिवीजन पर बातचीत छोड़कर यूनियन का सत्ताधारी खेमा थाने से लेकर एसएसपी कार्यालय तक के चक्कर लगाने में व्यस्त है। दूसरी तरफ विरोधी खेमा अपने उपर लग रहे षडयंत्र के आरोपों पर सफाई देने में लगा हुआ है। यूनियन की इस खींचतान में नुकसान कर्मचारियों का हो रहा है। ग्रेड रिवीजन में देरी से कर्मचारियों को सर्वाधिक नुकसान भत्ते के रूप में उठाना पड़ेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: Union dispute stalled grade talks in Tata Steel