DA Image
8 अगस्त, 2020|3:08|IST

अगली स्टोरी

दुखद : रेलवे के ही अस्पताल में ट्रैकमैन का शव 12 घंटे तक पड़ा रहा

दुखद : रेलवे के ही अस्पताल में ट्रैकमैन का शव 12 घंटे तक पड़ा रहा

टाटानगर रेलवे अस्पताल में ट्रैकमैन रामभिखारी राम की गुरुवार को मौत के बाद 12 घंटे तक शव पड़ा रहा। उसके परिजनों ने विस्तृत रिपोर्ट की मांग की। परिजनों ने अस्पताल से विस्तृत रिपोर्ट मांगी कि सुबह आठ बजे मरीज को भर्ती कराया गया। आधे घंटे बाद मौत हो गई और अभी तक कोरोना पॉजिटिव की रिपोर्ट नहीं दी गई है। सारी विस्तृत रिपोर्ट की मांग करने लगे। इसके बाद अस्पताल प्रबंधन और रेलवे कर्मचारी संगठन के नेताओं को समझाने के बाद रात नौ बजे मामला शांत हुआ। कर्मचारी नेताओं ने बताया कि कोरोना पॉजिटिव की रिपोर्ट जिला प्रशासन देता हैं। इससे पहले टाटानगर अस्पताल को लिखित देना संभव नहीं है। किट की जांच को आधार नहीं बनाया जा सकता है। इसके बाद परिजनों ने शव को अंतिम संस्कार के लिए ले गए। मरीजों को शिफ्ट कर अस्पताल होगा सेनिटाइज : कोरोना पॉजिटिव मरीज की मौत के बाद टाटानगर अस्पताल को सेनेटाइज किया जाएगा। इससे पहले मरीजों को दूसरी जगहों पर शिफ्ट किया जाएगा, ताकि दूसरे मरीज संक्रमित न हो। दक्षिण पूर्व रेलवे मेंस कांग्रेस के मंडल कोऑर्डिनेटर शशि मिश्रा ने बताया कि जिला प्रशासन की उदासीनता के चलते रेल कर्मियों को इलाज में काफी कठिनाई हो रही है। जिला प्रशासन कर्मियों को सुविधा दे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Tragic Trackman 39 s body lay in the hospital for 12 hours