DA Image
25 नवंबर, 2020|5:16|IST

अगली स्टोरी

मसालों से महकेंगे पर्यटन केंद्र, किसानों को मिलेगा बाजार

मसालों से महकेंगे पर्यटन केंद्र, किसानों को मिलेगा बाजार

गोवा की तर्ज पर कृषि पर्यटन केंद्रों पर मसाला बगान खोलने की तैयारी शुरू कर दी गई है। कृषि विभाग ने कोल्हान के सभी जिलों में मसाला बगान विकसित करने का निर्णय लिया है। मुख्य रूप से रसोई में उपयोग होने वाले कई मसालों की खेती की जा सकेगी।

पर्यटन केंद्रों पर खासकर लौंग, इलायची, दालचीनी की बागवानी कर किसानों को खेती के लिए प्रेरित किया जाएगा। विभाग इस खेती को लेकर कृषि वैज्ञानिकों से भी राय ले रहा है, ताकि जिन मसालों की खेती अच्छी हो सकती है, उसे प्राथमिकता दी जाए। विभागीय सूत्रों ने बताया कि किसान जबतक अपनी आंखों से किसी चीज को नहीं देखते हैं, तब तक वे कही-सुनी बातों पर खेती नहीं करना चाहते, लेकिन सरकार की यह पहल सार्थक साबित होगी और किसानों को खेती का अच्छा विकल्प मिल सकेगा।

किसानों को प्रशिक्षण भी मिलेगा

कृषि विभाग राज्य को मसालों में आत्मनिर्भर बनाने और किसानों की आमदनी बढ़ाने को लेकर बागवानी के माध्यम से उन्हें खेती करने का प्रशक्षिण भी देगा। मसालों की खेती करने के इच्छुक किसानों को सरकार सस्ते दर पर पौधे व बीज देगी। प्रस्ताव में किसान प्रशिक्षण लेने के बाद इसकी खेती के लिए आगे आ सकते हैं। इसमें सरकार की ओर से 50 प्रतिशत तक की सब्सिडी उपलब्ध कराई जाएगी और किसानों को खेती में भी सहायता करने का प्रयास किया जाएगा।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Tourist centers will smell of spices farmers will get market