ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News झारखंड जमशेदपुरसाकची में भवन निर्माण विभाग के आवासों पर है अवैध कब्जा

साकची में भवन निर्माण विभाग के आवासों पर है अवैध कब्जा

भवन निर्माण विभाग के साकची स्थित करीब आधा दर्जन आवास पर वर्षों से अवैध कब्जा है। यही नहीं, जो खाली जमीन है, उसपर भी दखल कर लिया गया...

साकची में भवन निर्माण विभाग के आवासों पर है अवैध कब्जा
हिन्दुस्तान टीम,जमशेदपुरFri, 09 Feb 2024 05:30 PM
ऐप पर पढ़ें

भवन निर्माण विभाग के साकची स्थित करीब आधा दर्जन आवास पर वर्षों से अवैध कब्जा है। यही नहीं, जो खाली जमीन है, उसपर भी दखल कर लिया गया है। इसे खाली कराने के लिए पहले कई बार नोटिस भी जारी किया गया, परंतु कब्जेदारों पर इसका असर नहीं हुआ। कई वर्ष पहले धालभूम के अनुमंडल पदाधिकारी की ओर से इक्का-दुक्का कब्जे को खाली कराया गया था। परंतु अब कब्जेदारों की संख्या अधिक हो चुकी है।
जिन आवास पर अवैध कब्जा है, उनमें क्वार्टर नंबर 6, 7, 8, 11, 12, 13 और 18 शामिल हैं। तीन नंबर क्वार्टर परिसर में बालू-गिट्टी का डिपो खोल लिया गया है। इसके अलावा जो टीना शेड नाम से चतुर्थवर्गीय कर्मचारियों के क्वार्टर हैं, उनमें से 18 आवास पर अवैध दखल है। अवैध दखल हटाने के लिए पूर्व में कई बार नोटिस जारी किया गया, परंतु इसका कोई नतीजा नहीं निकला। विभाग का मानना है कि जबतक प्रशासन इसे हटाने के लिए सख्ती नहीं दिखाएगा, तबतक कब्जा हटाना मुश्किल है।

साकची की कीमती जमीन पर कब्जा

भवन निर्माण विभाग की यह संपत्ति शीतला मंदिर की दूसरी ओर, पुलिस हॉस्पिटल और टेम्पो स्टैंड के बाद से शुरू होती और यह जेल चौक तक फैली है। टीबी अस्पताल के बगल से टेम्पो स्टैंड तक की जमीन पर अनेक दुकानें, गुमटियां और गोदाम खुल गए हैं। ये सभी हर महीने हजारों रुपये की कमाई कर रहे हैं। परंतु भवन निर्माण विभाग को इनसे कोई शुल्क नहीं मिल रहा है। साकची जैसी जगह में मेन रोड के किनारे अगर ये दुकानें किराए पर ली जातीं तो प्रति वर्ग फीट के हिसाब से इन्हें शुल्क चुकाना पड़ता। यह किराया एक-एक दुकान के हिसाब से हजारों रुपये होता। परंतु भवन निर्माण विभाग के अधिकारी भी इसको लेकर गंभीर नहीं हैं। विभाग के वर्तमान कार्यपालक अभियंता लालजीत राम से इस बारे में पूछा गया तो उनके पास जवाब नहीं था। पहले एक बार कब्जा हटाया गया था। परंतु अवैध कब्जेदार पुन: वहीं फिर से जम गए। ऐसा इसलिए हुआ, क्योंकि अतिक्रमण हटाने के बाद उसे सुरक्षित रखने का पुख्ता इंतजाम नहीं किया गया।

कोट-

इस मामले में पता करते हैं कि क्या हो सकता है।

- लालजीत राम, कार्यपालक अभियंता, भवन निर्माण प्रमंडल, जमशेदपुर

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें