DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मुंबई मेल के क्षतिग्रस्त बोगी में 17 92 किग्रा माल था अधिक

मुंबई हावड़ा मेल के क्षतिग्रस्त एसएलआर बोगी के लॉगेज में 17 सौ 92 केजी अधिक माल लोड था। इसके साथ ही एसएलआर बोगी क्यों क्षतिग्रस्त हुई। इसके लिए दक्षिण पूर्व रेलवे मुख्यालय कोलकाता द्वारा मैकेनिकल विभाग की जांच के लिए तीन सदस्यीय टीम का गठन किया है। टीम जल्द ही चक्रधरपुर पहुंच कर क्षतिग्रस्त एसएलआर बोगी की जाच करेगी।

इसकी जानकारी चक्रधरपुर रेल मंडल के वरीय वाणिज्य प्रबंधक सह जनसंपर्क अधिकारी मनीष कुमार पाठक ने दी है। कहा कि बोगी के दोनों भागों में रखे माल का वजन कराया गया। एक भाग के फारवडिंग नामक दिल्ली की कंपनी को लीज दिया गया था। जिसमें चार टन से कम माल लदान करने की जगह कंपनी द्वारा पांच टन 792 केजी माल लदान किया था। जो वहन क्षमता से 17 सौ 92 केजी अधिक है। इसलिए माल को जब्त कर लिया गया है। उक्त कंपनी पर कामर्शियल विभाग के साथ मैकेनिकल विभाग भी जुर्माना वसूली करेगा। मैकेनिकल विभाग अपनी एआरटी वेन को चक्रधरपुर से घटना स्थल पर भेजने, चार घंटा से अधिक समय तक रेल यातायात ठप होने, पार्सल माल को लोटापहाड़ से चक्रधरपुर लाने सहित अन्य खर्च का जुर्माना वसूलेगा। इसके साथ ही रेलवे उक्त कंपनी को ब्लैकलिस्टेड भी कर सकती है। वहीं दूसरे भाग साईनाथ कारगो कोलकाता को दिया गया था। जिन्होंने चार टन से कम माल लदान की थी। इसलिए उनके माल को छोड़ दिया गया है और कंपनी से माल चक्रधरपुर से ले जाने के लिए कहा गया है। उन्होंने भी स्वीकार किया है कि यह रेलवे की बड़ी चूक थी। माल लदान के बाद इसकी जांच होनी चाहिए थी। उन्होंने भी कहा कि अगर बड़ा हादसा हो सकता था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:The damaged bogie of Mumbai Mail had 1792 kg of goods