DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

टाटा स्टील हर साल सौ दिव्यांगों को देगी नौकरी

टाटा स्टील हर साल सौ दिव्यांगों को देगी नौकरी

टाटा स्टील हर साल 100 दिव्यांगों को कंपनी में नौकरी देगी। प्रबंधन ने इस दिशा में पहल शुरू कर दी है। दिव्यांगों को दया नहीं सहानुभूति व संवेदनशीलता की जरूरत है।

इस दिशा पर टाटा स्टील काम करते हुए शारीरिक रूप से अक्षम व दृष्टिहीन (कुछ प्रतिशत तक) दिव्यांगों को अपने यहां नियोजित करने की पहल कर चुका है। साथ ही दिव्यांगों के लिए रेलिंग, स्टेलेनियम सभागार सहित अन्य जगहों पर रैम्प, कम ऊंचाई वाले टेबल जैसे मूलभूत सुविधाएं विकसित कर रहा है। जिन दिव्यांगों को तेज रोशनी में दिक्कत होती है, उनके लिए धीमी रोशनी की व्यवस्था की जा रही है। साथ ही कंपनी एक दिव्यांग के लिए बोलने से टाइप होने वाले लैपटॉप भी मंगवा रहे हैं।

हर विभाग करें पहल : एमडी

पहली दिसंबर को टाटा स्टील का मासिक कार्यक्रम एमडी ऑनलाइन हुआ। इसमें प्रबंध निदेशक टीवी नरेंद्रन ने कंपनी के सभी विभागों को दिव्यांगों के लिए उपयुक्त नौकरी तलाशने के लिए प्रेरित किया। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार से कोई आदेश आने का इंतजार न करें। टाटा स्टील पहली ऐसी कंपनी है, जो पहले खुद पहल करती है और उसपर कानून बाद में बनता है।

पीडब्ल्यूडी एक्ट संसद में पास

केंद्र सरकार ने वर्ष 2016 में राइट्स ऑफ पर्सन विथ डिसैबिलिटीज बिल को संसद में पास किया है। इसके तहत 21 तरह के लक्षण वालों को दिव्यांग माना जाएगा। इस कानून के तहत दिव्यांगों को भी समानता का अधिकार मिलेगा। साथ ही कंपनियों को अपने यहां नियम बनाकर ऐसे दिव्यांगों को नौकरी देनी होगी। इसके अलावा उन्हें उच्च शिक्षा, सरकारी नौकरी, जमीन आवंटन, गरीब निवारण स्कीम में भी आरक्षण दिया जाना है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Tata Steel will give job to 100 divas every year