ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News झारखंड जमशेदपुरसंडे मस्ती : टाटा जू में उमड़ी भीड़, पांच हजार ने किया पशु-पक्षियों व जानवरों का दीदार

संडे मस्ती : टाटा जू में उमड़ी भीड़, पांच हजार ने किया पशु-पक्षियों व जानवरों का दीदार

कोरोना वायरस से उबरते हुए टाटा जूलॉजिकल पार्क अब लोगों को बरबस अपनी ओर खींच

कोरोना वायरस से उबरते हुए टाटा जूलॉजिकल पार्क अब लोगों को बरबस अपनी ओर खींच
1/ 3कोरोना वायरस से उबरते हुए टाटा जूलॉजिकल पार्क अब लोगों को बरबस अपनी ओर खींच
कोरोना वायरस से उबरते हुए टाटा जूलॉजिकल पार्क अब लोगों को बरबस अपनी ओर खींच
2/ 3कोरोना वायरस से उबरते हुए टाटा जूलॉजिकल पार्क अब लोगों को बरबस अपनी ओर खींच
कोरोना वायरस से उबरते हुए टाटा जूलॉजिकल पार्क अब लोगों को बरबस अपनी ओर खींच
3/ 3कोरोना वायरस से उबरते हुए टाटा जूलॉजिकल पार्क अब लोगों को बरबस अपनी ओर खींच
हिन्दुस्तान टीम,जमशेदपुरMon, 13 Dec 2021 06:21 PM
ऐप पर पढ़ें

कोरोना वायरस से उबरते हुए टाटा जूलॉजिकल पार्क अब लोगों को बरबस अपनी ओर खींच रहा है। गत 3 माह में एक लाख लोगों ने ज़ू का भ्रमण किया है। रविवार को खासतौर से यहां लोगों की भीड़ उमड़ती है। इस रविवार भी करीब 5000 लोगों ने ज़ू पहुंचकर प्रकृति और देसी विदेशी पशु पक्षियों को देखने का आनंद उठाया। फिलहाल ज़ू प्रबंधन सरकारी गाइडलाइन के मद्देनजर आगंतुकों को लगातार आगाह कर रहा है। इस दौरान पार्क के अंदर मेन रोड के दोनों किनारे वाहनों के खड़े हो जाने से मेन रोड में जाम लगा रहा।

जो पहुंचने वालों में हर आयु वर्ग के लोग शामिल रहते हैं खासकर बच्चों की संख्या अच्छी खासी रह रही है। अभी भी जू प्रवेश का टिकट पहले की तरह बड़ों के लिए 30 जबकि बच्चों के लिए 20 रुपये है। जबकि प्रवेश का समय सुबह 9 और बंद होने का समय 4:30 बजे है।

मास्क के बिना प्रवेश पर रोक

ज़ू प्रबंधन ने अपने कर्मचारियों को सख्त निर्देश दे रखा है कि बिना मास्क पहने कोई भी व्यक्ति ज़ू के भीतर प्रवेश नहीं कर सके। वैसे तो सोशल डिस्टेंसिंग के बारे में भी बताया जाता है, परंतु लोग इसका पालन करना जरूरी नहीं समझते। खासतौर से रविवार को भीड़ की वजह से सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराना मुश्किल होता है।

ठंड में की गई है विशेष व्यवस्था

प्रबंधन ने ज़ू के पशु-पक्षियों के ठंड से बचाव को विशेष व्यवस्था की है। कुछ जानवरों के बाड़े में पुआल बिछाया गया है और कई बाड़े में पुआल के साथ हीटर की भी व्यवस्था की गई है। यही नहीं, ठंड की वजह से पशु पक्षियों के खाने पीने में भी बदलाव किए गए हैं। शाकाहारी जानवरों को खाने में गुुुड़ दिया जा रहा है।