DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पारडीह काली मंदिर में रुद्राभिषेक

पारडीह काली मंदिर में रुद्राभिषेक

पारडीह काली मंदिर परिसर में तीन दिवसीय 28वां धार्मिक अनुष्ठान शनिवार को शुरू हुआ। इसके तहत रुद्राभिषेक कराया गया। सबसे पहले जूना अखाड़ा के अंतरराष्ट्रीय प्रवक्ता महंत विद्यानंद सरस्वती ने सुबह 10 बजे मंदिर के नए द्वार का पूजा कर उद्घाटन किया।

महंत विद्यानंद सरस्वती के नेतृत्व में सुबह 11 बजे से रुद्राभिषेक शुरू हुआ, जो दोपहर डेढ़ बजे तक चला, इसमें अंतरराष्ट्रीय जूना अखाड़ा के कोषाध्यक्ष इन्द्रानंद सरस्वती, भक्त मुन्ना सिंह, मनीष पारिक, नीलम झा, कन्हैया सिंह, मधु गोराई, प्रबोध उरांव, राजू भगत आदि शामिल हुए। इस दौरान देवी-देवताओं का अलौकिक शृंगार किया गया, जो मनमोहक दिख रहा था।

रुद्राभिषेक कराने वाले पुजारी

रुद्राभिषेक कराने वाले पुजारियों में जुगसलाई के मधुसूदन जोशी, मनोज शर्मा, बजरंग पंडित, बनारस के राहुल शर्मा, धर्मवीर शर्मा, कोलकाता के गोपाल शर्मा शामिल हैं।

भक्तों ने ग्रहण किया प्रसाद

दिन में दो बजे से भक्तों और साधु संतों ने प्रसाद ग्रहण करना शुरू किया, जिसमें गुजरात, हरिद्वार, बनारस, उज्जैन, कोलकाता, नासिक, मथुरा आदि शहरों से 60 से अधिक साधु संत पधारे हैं। साथ ही बाहर से संतों का आना जारी है।

आज के कार्यक्रम

पारडीह काली मंदिर में धार्मिक अनुष्ठान के दूसरे दिन रविवार सुबह 10 बजे से चंडी पाठ होगा। दोपहर में भक्त प्रसाद ग्रहण करेंगे। शाम 7 बजे से भजन कीर्तन का आयोजन किया गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Rudrabhishek in Pardih Kali Temple