DA Image
12 अगस्त, 2020|1:12|IST

अगली स्टोरी

प्रेमी युगल की हत्या में रिषभ को जेल, बदलेगा केस

default image

समतानगर में प्रेमी युगल की हत्या नहीं की गयी थी। उन दोनों को इतना प्रताड़ित किया गया था कि उन दोनों ने आत्महत्या कर ली, लेकिन हत्या की प्राथमिकी पवन यादव के पिता विनोद यादव के द्वारा दर्ज करायी गयी है। लिहाजा, उसे उसी प्राथमिकी के आधार पर जेल भेज दिया गया। पुलिस इस तैयारी में है कि अब इस मामले को आत्महत्या के लिए उकसाने के मामले में परिवर्तित करे।पुलिस को जांच में हत्या के कोई प्रमाण नहीं मिले हैं, लेकिन इतना अवश्य पता चला है कि रिया और पवन के पीछे रिया का भाई रिषभ पड़ा हुआ था। वह अक्सर पवन के साथ मारपीट करता था। उसे लगातार धमकी देता था। एक बार तो रिषभ ने पवन को अपने घर के कमरे में बंद कर उसके साथ मरपीट की थी। दूसरी ओर, पोस्टमार्टम में भी हत्या की पुष्टि नहीं हुई है। जिस तरह से गर्दन की हड्डी टूटी है, वह साधारण रूप से हत्या में ही प्रतीत होती है। पुलिस ने रिषभ, उसके दोस्त व परिवार के अन्य सदस्यों के मोबाइल फोन के कॉल डिटेल का भी विश्लेषण किया, लेकिन उसमें कोई खास बात सामने नहीं आयी। इसे देखते हुए पुलिस ने हिरासत में लिए गए रिषभ की रिश्तेदार रमा देवी और रिषभ के दोस्त रितेश को छोड़ दिया। टॉर्च के लिए ले गया था गोरा का मोबाइल :घटनास्थल से पुलिस को मोबाइल फोन मिला जो पवन के किराएदार सुभाष उर्फ गोरा का था। उस मोबाइल फोन से रात में किसी को कॉल नहीं किया गया है। पुलिस मान रही है कि उस फोन का इस्तेमाल परमेश्वर कॉलानी के उस खाली जगह में जाने के लिए टार्च के रूप में किया गया होगा। दूसरी ओर, पवन और रिया दोनों के पास मोबाइल फोन नहीं थे।यह है मामला : मानगो की परमेश्वर कालोनी में समतानगर के पवन और उसकी प्रेमिका की फंदे से लटकी लाश मिली थी। इस कांड में पहले पुलिस ने हत्या का मामला दर्ज किया। हालांकि, एसपी सिटी सुभाष चन्द्र जाट के 24 घंटे लगातार अनुसंधान के बाद मामले में हत्या का कहीं सूत्र नहीं मिला।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Rishab jailed for killing couple will change case