DA Image
20 जनवरी, 2021|4:39|IST

अगली स्टोरी

चार घंटे में मिल जाएगा रिटायर शिक्षकों को न्याय, 13 साल से लगा रहे थे दफ्तरों का चक्कर

default image

पटमदा। कल्याण कुमार गोराई

राज्य के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कुछ दिनों पूर्व घोषणा की थी कि विभाग में बाबुओं की लापरवाही बर्दाश्त नहीं होगी। लंबित मामलों का त्वरित निष्पादन होगा। इस घोषणा से लोगों में उम्मीद जगी। पटमदा के सांसद आदर्श ग्राम निवासी सेवानिवृत्त शिक्षक रायमोहन महतो ने बुधवार को जिला उपायुक्त सूरज कुमार को आवेदन दिया था। इसके बाद उपायुक्त ने जिला शिक्षा अधीक्षक, पूर्वी सिंहभूम को तत्काल कार्रवाई का निर्देश दिया था। 73 वर्षीय रायमोहन महतो ने बताया कि वे मध्य विद्यालय गेरूवाला (बनकुचिया) में शिक्षक थे। 30 जून 2007 को रिटायर हुए। सेवाकाल के दौरान 1 जनवरी 1971 से 31 मार्च 1973 की अवधि के वेतन का डिफरेंस अमाउंट उन्हें नहीं मिला। रियाटरमेंट के 13 साल बीत जाने के बावजूद राशि न मिलने के कारण वे काफी परेशान हो गए। इसके बाद उन्होंने उपायुक्त से गुहार लगायी।

961 रुपए की राशि बढ़कर हो गई 22108 रुपए: वर्ष 1971 में अगर भुगतान होता तो यह राशि 961 रुपए होता, लेकिन सरकारी लापरवाही के कारण यह राशि बढ़कर 22108 रुपए हो गई है।

उपायुक्त के निर्देश पर जिला शिक्षा अधीक्षक ने कोर्ट के एक आदेश का हवाला देते हुए उक्त अवधि के अंतर वेतन की राशि का ब्याज सहित ड्राफ्ट में भुगतान करने के लिए प्रधानाध्यापक सह निकासी एवं व्ययन पदाधिकारी, मध्य विद्यालय पटमदा को पत्र जारी किया। उपायुक्त के माध्यम से करीब चार घंटे के अंदर उन्हें न्याय मिल गया। रायमोहन महतो काफी खुश हैं। उन्होंने गुरुवार को जिला शिक्षा अधीक्षक, कार्यालय की कॉपी मिलते ही कहा कि हर जिले में सूरज कुमार जैसा ही उपायुक्त होना चाहिए।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Retired teachers will get justice in four hours the offices were circling for 13 years