DA Image
20 अप्रैल, 2021|7:26|IST

अगली स्टोरी

लॉकडाउन लगते रेलवे में टिकट रिफंड की भीड़

default image

जमशेदपुर, संवाददाता।

झारखंड में लॉकडाउन की घोषणा होते ही टाटानगर स्टेशन के आरक्षण केंद्र में टिकट रद्द कराने वालों की भीड़ उमड़ पड़ी। इससे वाणिज्य कर्मचारियों के समक्ष नगद राशि की समस्या फिर खड़ी हो गई। क्योंकि ज्यादातर ग्रूप टिकट था, जो लोगों ने शादी-विवाह को लेकर बिहार-यूपी व अन्य राज्यों के लिए बुक कराया था। अभी एक-एक ग्रुप के टिकट मद में रेलवे को 35 से 45 हजार रुपये तक लौटाना पड़ेगा। जबकि टाटानगर रेलवे आरक्षण केंद्र में उतनी रकम नहीं है। इससे ग्रूप टिकट रद्द कराने वालों को दूसरे दिन बुलाया गया है। ताकि रकम की व्यवस्था हो सके। क्योंकि टिकट रद्द करने के साथ ही रकम का भुगतान करना होगा।

सप्ताहभर से रद्द हो रहे टिकट: टाटानगर में महाराष्ट्र-गुजरात की ट्रेनों का टिकट रद्द कराने वालों की भीड़ करीब सप्ताहभर से स्टेशन पर उमड़ रही है, लेकिन यात्रियों को लौटाने योग्य रकम भी रेलवे को टिकट बुकिंग से प्राप्त नहीं हो रहा है। सूत्र बताते हैं कि 2020 के लॉकडाउन में चक्रधरपुर मंडल ने बैंक से राशि निकालकर यात्रियों को टिकट कैंसल मद में लौटाया था। 2021 में यह स्थिति उत्पन्न हो गई। लेकिन रेल अधिकारी अभी स्थिति का आकलन करने के साथ प्रतिदिन मंडल स्तर पर रद्द होने वाले टिकट की संख्या और रकम के नुकसान पर नजर रखे हुए हैं।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Railway refund congestion due to lockdown