ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News झारखंड जमशेदपुरएक रैक का इस्तेमाल दो ट्रेनों में होने से बढ़ रही है परेशानी

एक रैक का इस्तेमाल दो ट्रेनों में होने से बढ़ रही है परेशानी

टाटानगर में बोर्ड बदलकर एक मार्ग से आने वाली ट्रेनों के रैक दूसरे मार्ग में चलाए जा रहे हैं। अभी टाटानगर से राउरकेला और बादामपहाड़ के लिए शुरू नई...

एक रैक का इस्तेमाल दो ट्रेनों में होने से बढ़ रही है परेशानी
हिन्दुस्तान टीम,जमशेदपुरThu, 07 Dec 2023 02:15 AM
ऐप पर पढ़ें

टाटानगर में बोर्ड बदलकर एक मार्ग से आने वाली ट्रेनों के रैक दूसरे मार्ग में चलाए जा रहे हैं। अभी टाटानगर से राउरकेला और बादामपहाड़ के लिए शुरू नई मेमू ट्रेनों में भी यह सिस्टम लागू किया गया है। दरअसल, रेलवे में कोच का अभाव है। इससे एक मार्ग पर ट्रेनों के रैक को नंबर बदलकर चलाया जाता है, ताकि यात्रियों को आवागमन में सहूलियत हो। वहीं, ज्यादा से ज्यादा क्षेत्र को रेलमार्ग से जोड़ा जा सके। 21 नवंबर को उद्घाटित बादामपहाड़-टाटानगर-राउरकेला टाटानगर नई मेमू ट्रेनों में यह शिड्यूल लागू है। इससे राउरकेला से आकर मेमू ट्रेन का रैक टाटानगर से बादामपहाड़ बनकर चलती है।
रेलवे की इस पहल से कोल्हान और ओडिशा के यात्रियों को आवागमन का साधन मिला। वहीं, खाली बोगियों को खड़ा करने की समस्या नहीं होती है। हालांकि, इससे एक मार्ग की ट्रेन लेट होने या रद्द होने की स्थिति में दूसरे मार्ग के यात्रियों को इससे परेशानी भी होती है।

जानकारी के अनुसार, टाटानगर में यह व्यवस्था कई वर्षों से है। परिचालन विभाग ने ऐसा शिड्यूल बनाया है कि खड़गपुर से आने वाली मेमू ट्रेन के रैक को दूसरे नंबर से चक्रधरपुर व बरकाकाना भेज दिया जाता है, जबकि बादामपहाड़ से दोपहर में टाटानगर लौटने वाली मेमू ट्रेन के रैक को गुवा मार्ग में चलाया जाता है। इसी तरह गुवा पैसेंजर के रैक का इस्तेमाल कई बार टाटानगर से इतवारी एक्सप्रेस में होता है।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें