DA Image
29 फरवरी, 2020|12:42|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पत्थलगड़ी प्रकरण : पीड़ित परिजनों से मिले मुख्यमंत्री, कार्रवाई और मदद का दिया आश्वासन

पत्थलगड़ी प्रकरण : पीड़ित परिजनों से मिले मुख्यमंत्री, कार्रवाई और मदद का दिया आश्वासन

पश्चिमी सिंहभूम जिले के गोईलकेरा प्रखंड की गुलीकेरा पंचायत के बुरुगुलीकेरा गांव में पत्थलगढ़ी का विरोध करने पर सात लोगों की हत्या के बाद गुरुवार को मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन बुरुगुलीकेरा गांव पहुंचे और पीड़ित परिवारों से मिलकर ढांढस बंधाया। उन्होंने मृतक के परिजनों को आरोपियों पर कार्रवाई का आश्वासन दिया और हरसंभव मदद करने की बात कही। गुरुवार को वे रांची से लोढ़ाई मैदान में हेलीकॉप्टर से पहुंचे और सड़क मार्ग से बुरुगुलीकेरा गांव पहुंचे। गांव के साप्ताहिक हाट मैदान में सभी मृतकों के परिजनों से वे मिले। मृतक उपमुखिया जेम्स बुढ़, लोम्बा बुढ़, जावरा बुढ़, कोंजे टोपनो, एतवा बुढ़, निर्मल बुढ़, बोबास लोमगा के परिजन मुख्यमंत्री का इंतजार कर रहे थे। इस दौरान मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन काफिला के साथ पहुंचे और पीडि़त परिवारों से जमीन पर बैठकर बात की। इस दौरान हेमंत सोरेन भावुक हो गए। उन्होंने कहा कि सिदो कान्हू, बिरसा मुंडा और गुरुजी के आंदोलन से अलग अबुआ राज तो आ गया। लेकिन हम आपस में लड़ रहे हैं तो यह राज्य किस काम का है। उन्होंने कहा कि मरने वाले भी अपने लोग थे और मारने वाले भी अपने लोग थे। मरने वाले तो चले गए और अब 20-50 लोगों को पुलिस जेल में डालेगी तो यहां कौन रहेगा। उन्होंने लोगों को आपस में मिलकर रहने की बात कही। साथ ही कहा कि किसी भी समस्या में समझौता करना चाहिए। अगर समझौता नहीं होता है तो हमारे यहां मानकी मुंडा व्यवस्था, कानून व्यवस्था है, इसके लिए आमलोगों को वहां जाकर शिकायत करनी चाहिए। लेकिन इस तरह की हिंसा फैलने से किसी को कोई लाभ नहीं मिलेगा। उन्होंने कहा कि जो लोग मर गए, वे भी किसी के पिता तो किसी के बेटा थे। अब उनके परिवार का क्या होगा।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Pathalgadi Case Chief Minister met victims assured assurance of action and help