DA Image
हिंदी न्यूज़ › झारखंड › जमशेदपुर › सभी विषयों में पास तो फिर कैसे कर दिया फेल
जमशेदपुर

सभी विषयों में पास तो फिर कैसे कर दिया फेल

हिन्दुस्तान टीम,जमशेदपुरPublished By: Newswrap
Sun, 01 Aug 2021 05:20 PM
सभी विषयों में पास तो फिर कैसे कर दिया फेल

जैक बोर्ड इंटरमीडिएट का परीक्षा परिणाम शुक्रवार को निकलने के बाद शनिवार को उसमें फेल छात्रों ने जमकर बवाल काटा। छात्रों ने पहले अपने कॉलेज में हंगामा किया। उसके बाद गेट बंद कर दिया। उसके बाद वे उपायुक्त कार्यालय गए। उपायुक्त द्वारा की जा रही बैठक के कारण मिलने में देर हुई तो छात्र जिला शिक्षा पदाधिकारी के कार्यालय पहुंचे और जमकर नारेबाजी की। बाद में उनके लिखित देने और उसपर जैक बोर्ड को सूचित करने के आश्वासन के बाद बवाल खत्म हुआ। सुबह नौ बजे से दोपहर तीन बजे तक छात्रों का बवाल चलता रहा।

छात्रों का आरोप है कि उनका कुल प्राप्तांक उत्तीर्ण वाला है, लेकिन इसके बावजूद उन्हें फेल कर दिया गया है। कोई छात्र चार तो कोई पांच नम्बर से फेल हुआ है। 11वीं में उनलोगों को उत्तीर्ण अंक से कम आने के बावजूद प्रमोट किया गया था और परीक्षा फॉर्म भरने का अवसर दिया गया। अब 11वीं के उसी अंक को आधार बनाकर उन्हें फेल किया गया। हंगामा ग्रेजुएट कॉलेज, को-ऑपरेटिव कॉलेज और वर्कर्स कॉलेज में हुआ।

वर्कर्स कॉलेज में दिया 48 घंटे का समय

वर्कर्स कॉलेज में भी जमकर हंगामा हुआ। इनका नेतृत्व आजसू छात्र के कोल्हान अध्यक्ष हेमंत पाठक ने किया। उन्होंने प्राचार्य को 48 घंटे का समय दिया है। उनका कहना है कि इंटरमीडिएट दूसरे वर्ष के परीक्षा परिणाम में थ्योरी पेपर में जो मर्जी में आया नंबर देकर छात्रों को फेल कर हैं। जो छात्र सब विषय मे पास है, उसे भी फेल कर दिया गया है। छात्रों को थ्योरी पेपर में किस आधार पर अंक दिया गया है। दसवीं ओर ग्यारहवीं के आधार पर मार्क्स दिया गया है तो सभी छात्र अच्छे नंबर से पास हुए थे वे क्यों फेल हुए।

फर्स्ट डिवीजन पर भी किया फेल

छात्रा नम्रता कुमारी के अनुसार, उसे 310 नम्बर मिले हैं। वह फर्स्ट डिवीजन है। लेकिन उसे 11वीं के केमेस्ट्री को आधार बनाकर फेल किया गया। उसमें उसे 13 नम्बर मिले थे और उसे प्रमोट कर पास किया गया था। दूसरे विषयों में उसके बेहतर अंक थे।

ग्रेजुएट की अधिकांश छात्राएं साइकोलॉजी में फेल

जिन छात्रों को फेल किया गया, उनमें 80% साइकोलॉजी की छात्राएं, जिन्हें 11वीं में इस विषय की थ्योरी पेपर में कम नम्बर दिए गए थे। छात्राओं का आरोप है कि कम नंबर के बावजूद उन्हें प्रमोट कर दिया गया। लेकिन बोर्ड ने उनके उसी नम्बर को आधार बनाया और उसमें फेल कर दिया।

11वीं में परीक्षा दी थी लेकिन मिला शून्य

एबीएम कॉलेज के छात्र बलराज सिंह ने 11वीं में परीक्षा दी थी, लेकिन इसबार उसका जो परिणाम आया है, उसमें सब विषय में रिजल्ट शून्य देकर फेल कर दिया गया है। कारण न तो कॉलेज ने बताया और न ही शिक्षा विभाग ने।

प्रैक्टिकल के अंक को नहीं जोड़ा बोर्ड ने

बताया जा रहा है कि कॉलेजों की तरफ से प्रैक्टिकल के अंक भेजे गए, लेकिन उसे जैक बोर्ड ने नहीं शामिल किया। इससे विद्यार्थियों के प्रैक्टिकल में किसी को अनुपस्थित तो किसी को उसके पुराने अंक के आधार पर कम अंक दे दिए गए। इसके अलावा किसी एक विषय में सिर्फ 11वीं के ही अंक को आधर बनाकर जो उस वक्त अंक आए थे उसे ही दोबारा दिया गया और उसमें छात्र अनुत्तीर्ण हुए।

संबंधित खबरें