DA Image
28 सितम्बर, 2020|8:04|IST

अगली स्टोरी

टाटा स्टील में 12 घंटे की शिफ्ट का विरोध

default image

टाटा स्टील में कोरोना वायरस की वजह से सिंटर प्लांट व न्यू बार मिल में पायलट प्रोजेक्ट के रूप में शुरू हुए 12 घंटे की शिफ्ट ड्यूटी का विरोध हो गया है। सोमवार को विभाग के 10 कमेटी मेंबरों ने एक संयुक्त हस्ताक्षरित ज्ञापन टाटा वर्कर्स यूनियन अध्यक्ष आर रवि प्रसाद, डिप्टी प्रेसिडेंट अरविंद पांडेय व महासचिव सतीश कुमार सिंह को सौंपा। इसमें 12 घंटे की शिफ्ट ड्यूटी को हटाकर पॉड सिस्टम को ही प्रभावी रखने की मांग की गई है।

इस मामले में अध्यक्ष आर रवि प्रसाद ने भी कमेटी मेंबरों को कंपनी प्रबंधन से बात करने का आश्वासन दिया है। ज्ञापन पर हस्ताक्षर करने वाले कमेटी मेंबरों में मनोरंजन तिवारी, मनजीत सिंह, अशोक कुमार मुखिया, अशोक कुमार गुप्ता, बीके श्रीवास्तव, सतीश कुमार सिन्हा, संतोष पांडेय, अविनाश सिंह, पल्लव शर्मा व अजय कुमार शामिल हैं।

सिंटर प्लांट में 650 स्थायी कर्मचारी कार्यरत हैं। 12 घंटे की शिफ्ट ड्यूटी के नतीजे अनुकूल रहने पर इसे पूरे प्लांट में प्रभावी करने की योजना थी। इसके लिए पहले सरकार से अनुमति ली गई थी। अनुमति के लिए बताया गया था इससे कर्मचारियों में संक्रमण का खतरा कम होगा। 20 अगस्त से यह लागू हुआ था।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Opposition to 12-hour shift in Tata Steel