ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News झारखंड जमशेदपुरएमजीएम में ऑपरेटर की नहीं हुई बहाली, खरीद ली गई लाखों की मशीन

एमजीएम में ऑपरेटर की नहीं हुई बहाली, खरीद ली गई लाखों की मशीन

एमजीएम अस्पताल में बिना ऑपरेटर और प्रशिक्षण के लाखों रुपये की मशीन बेकार पड़ी हुई है। इसका असर मरीजों के इलाज पर पड़ता है। मशीन के जरिए चिकित्सकों...

एमजीएम में ऑपरेटर की नहीं हुई बहाली, खरीद ली गई लाखों की मशीन
हिन्दुस्तान टीम,जमशेदपुरThu, 15 Feb 2024 05:45 PM
ऐप पर पढ़ें

एमजीएम अस्पताल में बिना ऑपरेटर और प्रशिक्षण के लाखों रुपये की मशीन बेकार पड़ी हुई है। इसका असर मरीजों के इलाज पर पड़ता है। मशीन के जरिए चिकित्सकों को इलाज में सुविधा होती है।
आर्थो विभाग में हाल में सी-आर्म मशीन की खरीदारी हुई थी, लेकिन उसे चलाने के लिए ऑपरेटर नियुक्त नहीं हुए। वहीं, मोड्यूलर ओटी प्रशिक्षण के अभाव में चालू नहीं हो पाया। बड़ी स्टेरलाइजर मशीन चलाने का अनुभव किसी अस्पतालकर्मी के पास नहीं है। नवंबर 2023 में एमजीएम अस्पताल के आर्थो विभाग में नई सी-आर्म मशीन की खरीदारी हुई थी, लेकिन इसे चलाने के लिए अबतक ऑपरेटर बहाल नहीं हुए। अस्पतालकर्मी अनुभव के आधार पर मशीन चलाते हैं।

ऑपरेशन में उपयोगी है सी-आर्म मशीन

कमर, कूल्हे व शरीर के अन्य हिस्सों की जटिल आर्थोपेडिक सर्जरी में मशीन का उपयोग होता है। इसके जरिए चिकित्सक टूटी हड्डियों के उस भाग को स्क्रीन पर देख सकते हैं, जहां स्क्रू, प्लेट आदि लगाना है। शरीर में फ्रैक्चर होने पर बगैर प्रभावित हिस्से को खोले आसपास के स्थान से होल करके रॉड या प्लेट को आसानी से डालकर हड्डी को कम समय में जोड़ा जा सकता है।

2015 में बना मॉड्यूलर ऑपरेशन थियेटर चालू नहीं

अस्पताल की इमरजेंसी में 2015 में बने मॉड्यूलर ऑपरेशन थियेटर में अबतक एक भी बड़ा ऑपरेशन नहीं हो पाया। डेढ़ करोड़ से ओटी का निर्माण कराया गया था, लेकिन इसे चलाने के लिए प्रशिक्षित कर्मियों की कमी है। आठ साल से एमजीएम इमरजेंसी में करोड़ों की मशीन खराब पड़ी है।

400 लीटर की स्टेरलाइजर मशीन बेकार

एमजीएम में 2017 में 15 लाख से 400 लीटर की स्टेरलाइजर मशीन की खरीदारी हुई थी। अबतक मशीन चालू नहीं हो पाई, क्योंकि मशीन कैसे चलेगी, इसकी जानकारी अस्पतालकर्मियों को नहीं है। इस कारण सात साल से नई मशीन बेकार पड़ी हुई है। अब एक और नया स्टेरलाइजर मशीन खरीदने की तैयारी है। अस्पताल में कुल तीन स्टेरलाइजर मशीन है। तीनों पुरानी हैं और हमेशा एक-दो ब्रेकडाउन हो जाती है। इस कारण ऑपरेशन टालना पड़ता है।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें