ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News झारखंड जमशेदपुरकोल्हान विवि में केवल 59 शिक्षक पीएचडी गाइड बनने के काबिल

कोल्हान विवि में केवल 59 शिक्षक पीएचडी गाइड बनने के काबिल

कोल्हान विश्वविद्यालय (केयू) ने पीएचडी सुपरवाइजर के लिए यूजीसी की ओर से जारी नई गाइडलाइन को लागू कर दिया। इसके अनुरूप विवि की ओर से पीएचडी सुपरवाइजर...

कोल्हान विवि में केवल 59 शिक्षक पीएचडी गाइड बनने के काबिल
हिन्दुस्तान टीम,जमशेदपुरFri, 09 Feb 2024 05:45 PM
ऐप पर पढ़ें

कोल्हान विश्वविद्यालय (केयू) ने पीएचडी सुपरवाइजर के लिए यूजीसी की ओर से जारी नई गाइडलाइन को लागू कर दिया। इसके अनुरूप विवि की ओर से पीएचडी सुपरवाइजर के लिए योग्य शिक्षकों की सूची भी जारी कर दी गई है। नई गाइडलाइन के पालन के बाद मात्र 59 शिक्षकों को ही पीएचडी गाइड बनने के काबिल पाया गया है। विषयवार विश्वविद्यालय की ओर से पीएचडी सुपरवाइजर की सूची जारी कर दी गई है।
सिर्फ 59 शिक्षक को ही पीएचडी सुपरवाइजर योग्य पाए जाने के कारण कोल्हान विवि में पीएचडी करने वाले विद्यार्थियों को गाइड मिलना मुश्किल होगा। नई गाइडलाइन में एक गाइड सिर्फ चार ही शोध छात्र को सुपरवाइज कर सकते हैं, ऐसे में कम सुपरवाइजर होने से कम ही छात्रों को पीएचडी गाइड मिल पाएंगे। ज्ञात हो कि यूजीसी की ओर से पीएचडी रेगुलेशनल 2022 के तहत तय न्यूनतम योग्यता के अनुरूप इस बार पीएचडी सुपरवाइजर की स्क्रूटनी की गई है। नई गाइडलाइन के मुताबिक जिन असिस्टेंट प्रोफेसर के कम से कम तीन शोध पत्र किसी जर्नल में प्रकाशित हुए हैं, वहीं पीएचडी सुपरवाइजर्स बन सकते हैं। पहले सिर्फ दो शोध पत्र प्रकाशित होने पर ही शिक्षकों को पीएचडी सुपरवाइजर बनाया जा सकता था। बहरहाल, विश्वविद्यालय की ओर से जारी सुपरवाइजर की सूची में विज्ञान में 11 पीएचडी सुपरवाइजर शॉर्टलिस्ट किए गए हैं। इसमें भौतिकी में 2, रसायन में 3, गणित में 2, वनस्पति विज्ञान में 2 व जीव विज्ञान में 2 सुपरवाइजर शॉर्टलिस्ट किए गए हैं। सोशल साइंस में 18 गाइड हैं। इसमें भूगोल में 1, अर्थशास्त्र में 4, इतिहास में 2, राजनीति शास्त्र में 10 व मनोविज्ञान में 01 पीएचडी सुपरवाइजर लिस्ट किए गए हैं। इसी तरह ह्यूमैनिटीज में 23 शिक्षक गाइड बनाए जाएंगे। इसमें हिन्दी में 05, इंग्लिश में 06, संस्कृत में 03, बांगला में 05, दर्शनशास्त्र में 02, उर्दू में 01, जबकि ओड़िया में एक भी पीएचडी गाइड उपलब्ध नहीं है। वहीं, कॉमर्स में 08 शिक्षक पीएचडी गाइड के योग्य हैं। बताते चलें कि इस बार सिर्फ स्थायी शिक्षक ही पीएचडी गाइड बन सकेंगे। सेवानिवृत्त शिक्षकों को गाइड नहीं बनाया जा सकेगा।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें