Number of registrants decreased in Bhado - भादो में रजिस्ट्री कराने वालों की संख्या घटी DA Image
6 दिसंबर, 2019|2:12|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भादो में रजिस्ट्री कराने वालों की संख्या घटी

default image

प्राचीन काल से भादो (भाद्र) महीना को शुभ नहीं मानने की हिन्दू मान्यता आज भी बरकरार है। इसके अनुसार कोई शुभ काम भादो में नहीं करना चाहिए। इसका असर हर साल किसी अन्य सरकारी विभाग पर दिखे न दिखे, रजिस्ट्री पर जरूर दिख जाता है। इस साल भी 16 अगस्त से भादो महीने के प्रवेश का असर रजिस्ट्री पर दिख गया। पहले दिन शुक्रवार को मात्र 16 रजिस्ट्री हुई। यह संख्या इससे पूर्व रोज हुई रजिस्ट्री की संख्या से आधी है। 14 अगस्त तक जमीन-मकान खरीद-बिक्री की संख्या औसतन 30 से 35 के बीच रहती थी, पर अब आधे सितंबर तक यही स्थिति रहने की उम्मीद है। हालांकि इस बीच जो पर्व-त्योहार आएंगे, उस दिन को शुभ मान लोग अधिक संख्या में रजिस्ट्री करा लेते हैं। जमशेदपुर के पूर्व जिला सब रजिस्ट्रार और अब कोल्हान के निबंधन कार्यालयों के निरीक्षक अशोक कुमार सिन्हा ने भी इसकी पुष्टि की। उन्होंने कहा कि यह मान्यता का मामला है। अपने ढाई दशक के कार्यकाल में उन्होंने तो यही देखा। हालांकि पहले की तुलना में शिक्षा का प्रसार बढ़ा है। लोग इन बातों को अब अधिक नहीं मानते, फिर भी जमीन-मकान खरीदने-बेचने वालों पर इसका असर दिखता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Number of registrants decreased in Bhado