ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News झारखंड जमशेदपुरएनएस ग्रेडकर्मियों को मिलेगी सेवाननिवृत्त होने पर मेडिकल सुविधा

एनएस ग्रेडकर्मियों को मिलेगी सेवाननिवृत्त होने पर मेडिकल सुविधा

टाटा स्टील के एनएस ग्रेड कर्मचारियों को पुराने ग्रेड के कर्मचारियों की तरह रिटायरमेंट के बाद मेडिकल सुविधा मिलेगी या नहीं इसको लेकर संशय की स्थिति...

एनएस ग्रेडकर्मियों को मिलेगी सेवाननिवृत्त होने पर मेडिकल सुविधा
एनएस ग्रेडकर्मियों को मिलेगी सेवाननिवृत्त होने पर मेडिकल सुविधा
हिन्दुस्तान टीम,जमशेदपुरTue, 25 Jun 2024 02:30 AM
ऐप पर पढ़ें

टाटा स्टील के एनएस ग्रेड कर्मचारियों को पुराने ग्रेड के कर्मचारियों की तरह रिटायरमेंट के बाद मेडिकल सुविधा मिलेगी या नहीं इसको लेकर संशय की स्थिति है। इस मुद्दे पर सोमवार को कमेटी मीटिंग के दौरान यूनियन उपाध्यक्ष शहनवाज आलम ने अध्यक्ष की अनुमति पर पक्ष रखते हुए कहा कि पूर्व अध्यक्ष आर रवि प्रसाद के समय जो समझौता हुआ है, उसमें कहीं भी जिक्र नहीं है कि एनएस ग्रेड के कर्मचारियों को सेवानिवृत्त होने पर मेडिकल सुविधा नहीं मिलेगी। कमेटी मीटिंग में विपक्ष ने सत्ता पक्ष को घेरते हुए पूर्व डिप्टी प्रेसिडेंट अरविंद पांडेय, आरसी झा, ओमप्रकाश शर्मा, शिवेश वर्मा, धर्मेंद्र उपाध्याय के साथ विमल कुमार ने कई सवाल पूछे।
कमेटी मेंबरों के सवालों के जवाब में टाटा वर्कर्स यूनियन के अध्यक्ष संजीव कुमार चौधरी ने कहा कि पहली बार कमेटी मेंबरों पर कार्रवाई नहीं हो रही है। पहले भी कमेटी मेंबरों पर कार्रवाई होती रही है। वर्तमान यूनियन पदाधिकारी संजय सिंह के पिताजी बीबी सिंह 13 महीने तक सस्पेंड रहे। एनएटीटी (नई कंपनी) मुझे विरासत में मिली है। ईसीबीएस 2.0 मेरे कार्यकाल में लागू हुआ है, जबकि यह कब आया था, सभी जानते हैं। काठमांडू में गेस्ट हाउस तय नहीं हो सका है, क्योंकि वहां के होटल द्वारा टैक्सेशन सर्टिफिकेट नहीं दिया जा रहा है। पुरी गेस्ट हाउस का फीडबैक भी अच्छा नहीं है। वहां कोई घोटाला नहीं हुआ है, पर कर्मचारी गेस्ट हाउस बुक कराते हैं। दिनभर घूमते हैं और रात में सात-आठ साथियों को रुम में रखते हैं। यही नहीं, गमछा पहनकर स्वीमिंग पूल में कूद जाते हैं। पुरी गेस्ट में किसी को छूट नहीं दी जाती है। मीटिंग की शुरुआत सुबह 9 बजे हुई, जो करीब पौने तीन बजे तक चली। मीटिंग की शुरुआत तय एजेंडा के अनुसार श्रद्धांजलि, पिछली कार्यकारिणी समिति की बैठक की कार्यवाही विवरण की पुष्टि, मार्च से मई तक के एकाउंट्स की पुष्टि से हुई। अध्यक्ष की अनुमति से एनी आदर मैटर को शामिल किया गया। हालांकि एकाउंट पर चर्चा के दौरान यूनियन कर्मचारियों के पीएफ का मुद्दा उठाया, जिसपर अध्यक्ष ने कहा कि वे इस मामले को ऑडिटर के पास रखकर जो भी नियम संम्मत है, उसके अनुसार कार्रवाई करेंगे।

थ्री टियर व्यवस्था चलती रहेगी

अध्यक्ष ने आगे कहा कि यूनियन में जो थ्री टियर व्यवस्था वर्षों से चल रही है, वह आगे भी चलती रहेगी। टीएमएच का आरओ अबतक नहीं हुआ है, लेकिन जल्द ही पहल होगी। साथ ही एमडी और कमेटी मेंबरों की भी बैठक होगी। सम्मानजनक एलटीसी और ग्रेड रिवीजन कराया जाएगा। इस दौरान यूनियन के सेमिनार हॉल समेत कई प्रमुख जगहों पर एसी खराब होने से परेशानी का जिक्र करते हुए इसे ठीक कराने की अनुमति मांगी गई। हालांकि अध्यक्ष ने यूनियन के मुखर विरोधी नेता अरविंद पांडेय ने नई कंपनी व यूनिफार्म वेज रिवीजन समझौता की कॉपी, कमेटी मेंबरों की संख्या कम करने पर अध्यक्ष से जवाब मांगा। जबकि आरके सिंह द्वारा फ्लैट रिपेयर, कैंटीन की क्वालिटी में सुधार, महिला कर्मचारियों के लिए फ्लेक्सी पंच जैसे अहम मुद्दा उठाए, जिसपर अध्यक्ष ने कोई जवाब नहीं दिया। चार्टर डिमांड पर जवाब देते हुए अध्यक्ष ने कहा कि वैसा सुझाव मत दीजिए कि कंपनी घर के लिए जमीन दे और बनाने के लिए लोन दे। मालूम हो कि करीब 15 साल पहले यूनियन का मुख्य एजेंडा कर्मचारियों को अपना घर दिलाने का सपना था, जिसे संजोकर कर्मचारी आज भी उस आस में है पर अध्यक्ष ने स्पष्ट कर दिया कि यह संभव नहीं है।

मीटिंग में ये मुद्दे उठे

कमेटी मेंबरों ने गेस्ट हाउस की बुकिंग में एनएस ग्रेड के कमेटी मेंबरों को रियायत, ईसीबीएस के पासिंग स्कोर 75 प्रतिशत से कम करने, चार्टर ऑफ डिमांड पर चर्चा के बाद प्रबंधन को देने, टीएमएच से लंबित आरओ, कैंटीन की क्वालिटी बेहतर करने, एलटीसी व आईबी पर प्वाइंट समझौता करने का मुद्दा उठाया।

इन कमेटी मेंबरों ने किए सवाल- ओमप्रकाश शर्मा, अरविंद पांडेय, आरसी झा,धर्मेंद्र उपाध्याय, शिवेश वर्मा, संतोष पांडेय, राकेश कुमार सिंह, दिनेश्वर कुमार, विमल कुमार, आरके सिंह आदि।

अध्यक्ष के कहने पर बना पदाधिकारी : महामंत्री

महामंत्री को क्लब हाउस का पदाधिकारी बनाने तथा यूनियन पदाधिकारियों के बीच मतभेद का मुद्दा कमेटी मेंबरों द्वारा उठाने पर महामंत्री ने कहा कि अध्यक्ष के कहने पर मैं क्लब हाउस का पदाधिकारी बना। क्लब हाउस का पदाधिकारी बनने में मुझे कोई रुचि नहीं है और मेरे पास समय भी नहीं है। मेरा किसी के साथ कोई मतभेद नहीं है। यूनियन एक है और सभी समझौता एक साथ करते हैं।

कमेटी मीटिंग में मौजूद रहा बाहरी व्यक्ति

टाटा वर्कर्स यूनियन की कमेटी मीटिंग में सिर्फ यूनियन के कमेटी मेंबर ही मौजूद रहते हैं। लेकिन सोमवार को हुई मीटिंग के दौरान यूनियन अध्यक्ष संजीव कुमार चौधरी का अंगरक्षक पूरी मीटिंग के दौरान कमेटी मेंबरों की बीच बैठा रहा। यह पहला मौका है, जब कोई बाहरी व्यक्ति कमेटी मीटिंग में बैठा रहा।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।