ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News झारखंड जमशेदपुरउद्योगों को आइडिया दे लाखों की कमाई कर रहा एनआईटी

उद्योगों को आइडिया दे लाखों की कमाई कर रहा एनआईटी

एनआईटी जमशेदपुर अलग-अलग औद्योगिक इकाइयों को उत्पादकता बढ़ाने की नवीनतम प्रौद्योगिकी का परामर्श देकर लाखों की कमाई कर रहा है। वर्ष 2022-23 में...

उद्योगों को आइडिया दे लाखों की कमाई कर रहा एनआईटी
हिन्दुस्तान टीम,जमशेदपुरWed, 21 Feb 2024 06:00 PM
ऐप पर पढ़ें

एनआईटी जमशेदपुर अलग-अलग औद्योगिक इकाइयों को उत्पादकता बढ़ाने की नवीनतम प्रौद्योगिकी का परामर्श देकर लाखों की कमाई कर रहा है। वर्ष 2022-23 में संस्थान ने परामर्श देकर कुल 41 लाख रुपये की मोटी कमाई की है। इस अवधि में संस्थान ने देश भर की कुल 50 अलग-अलग कंपनियों को उत्पादन की नवीन तकनीक को लेकर परामर्श दिया।
कुछ वर्ष पहले एनआईटी जमशेदपुर में अपने दक्ष फैकल्टी मेंबर्स की दक्षता के माध्यम से संस्थान के लिए फंड जुटाने की पहल की थी। इसके तहत संस्थान ने ऐसे औद्योगिक इकाइयों के लिए अपने दरवाजे खोल दिए, जो अपनी उत्पादन की पुरानी प्रौद्योगिकी को बेहतर व अत्याधुनिक बनाना चाहते हैं। ऐसी कंपनियों को एनआईटी के संबंधित ब्रांच के प्रोफेसर अपने शोध व अनुभव के आधार नवीन तकनीक मुहैया कराते हैं। इसके लिए पहले संस्थान के शिक्षक संबंधित कंपनी का निरीक्षण करते हैं और उक्त कंपनी में इस्तेमाल हो रही तकनीक की जानकारी लेते हैं। इसके बाद उक्त उत्पादन को बेहतर बनाने के लिए जरूरी तकनीक व संसाधनों को लेकर शोध करते हैं और कंपनी को अपने शोध के आधार पर तकनीक को अत्याधुनिक बनाने के लिए कंसल्टेंसी मुहैया कराते हैं। इसी कंसल्टेंसी के आधार पर कंपनियां अपना प्रोडक्शन सुधार लेती हैं। इस काम को एनआईटी के अलग-अलग ब्रांच के एचओडी अपनी टीम के साथ अंजाम देते हैं। जिस ब्रांच से संबंधित कंपनी होती है, उसी ब्रांच के फैकल्टी मेंबर उक्त कंपनी को तकनीक दिलाने के लिए अपनी कंसल्टेंसी मुहैया कराते हैं।

एनआईटी की ओर से जारी रिपोर्ट के मुताबिक 2022-23 में अबतक जहां 50 कंपनियों को कंसल्टेंसी देकर एनआईटी ने 41 लाख रुपये जुटाए हैं तो वहीं इससे पहले वर्ष 2021-22 में 45 इकाइयों को कंसल्टेंसी सर्विस दी गई, जिसमें से 36 लाख संस्थान ने जुटाए। वहीं, 2020-21 में 56 इकाइयों को प्रौद्योगिकी परामर्श दिया गया, जिससे 43 लाख रुपये एनआईटी जमशेदपुर ने जुटाए। एनआईटी के निदेशक प्रो. गौतम सूत्रधार के मुताबिक संस्थान देश के कई बड़े प्रोजेक्ट में कंसल्टेंसी की भूमिका वर्तमान में निभा रहा है। इनमें पहाड़ी इलाकों में हाइवे बनाने का काम भी शामिल है। इसे लेकर संस्थान काम कर रहा है।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें