DA Image
15 जनवरी, 2021|8:50|IST

अगली स्टोरी

राष्ट्र निर्माण के लिए हुई थी नोटबंदी : अर्जुन मुंडा

राष्ट्र निर्माण के लिए हुई थी नोटबंदी : अर्जुन मुंडा

झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री अर्जुन मुंडा ने कहा कि मोदी सरकार ने राष्ट्र निर्माण के लिए नोटबंदी का फैसला किया, जिसका दूरगामी असर देखने को मिलेगा।

वे बुधवार को साकची स्थित होटल दयाल इंटरनेशनल में आयोजित प्रेस वार्ता को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चुनाव में शासन के लिए नहीं, बल्कि राष्ट्र निर्माण के लिए बहुमत मांगा था। मोदी सरकार ने कई अहम फैसले लिए, जिसमें से नोटबंदी का फैसला सबसे बड़ा था। बड़े पैमाने पर कालेधन का खुलासा हुआ। वहीं, विपक्ष के लोगों को अपनी चिंता थी, जिसके चलते वे अधिक परेशान रहे।

उन्होंने कहा कि कामयाबी के लिए जोखिम उठाना पड़ता है, जिसमें कुछ परेशानियां भी आती हैं, पर उसका दूरगामी परिणाम सुखद होता है। देश में क्षमता का विकास हो रहा हैं। पूरी दुनिया में भारत की साख बढ़ी है। आने वाले दिनों में आशातित परिणाम देखने को मिलेंगे।

करदाताओं की संख्या बढ़ी : मुंडा ने भाजपा जमशेदपुर महानगर द्वारा बिष्टूपुर चैंबर भवन में नोट बंदी के एक वर्ष पूरा होने के उपलक्ष्य में आयोजित कालाधन विरोधी दिवस पर बतौर मुख्य अतिथि सभा को संबोधित किया। उन्होंने नोटबंदी को स्वच्छ अर्थव्यवस्था की ओर दृढ़ कदम बताया। उन्होंने कहा कि करदाताओं की संख्या बढ़ी है। आगामी वर्षों में विश्व के मानचित्र पर भारत ध्रुव की तरह चमकेगा। नोटंबदी के परिणाम स्वरूप रीयल इस्टेट की कीमतों में भारी गिरावट हुई है। घर खरीददारों को सस्ते घर मिल रहे हैं।

आतंकी गतिविधियों पर भी रोक लगी : भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष सह जमशेदपुर सांसद विद्युतवरण महतो ने कहा कि नोटबंदी से नक्सली घटनाओं के साथ ही कश्मीर में पत्थरबाजी की घटनाओं में कमी आई। अलगाववादी ताकतों की रीढ़ टूटी है। इन्हें संरक्षण और सहयोग देने वाली पार्टियां नोट बंदी को नुकसानदेह और विफल बता रही हैं।

भाजपा जिलाध्यक्ष दिनेश कुमार ने कहा कि नोटबंदी से कालेधन के बहुत बड़े गोरखधंधा का खुलासा हुआ। एक ही नाम और पता पर कई कंपनियों के सैकड़ों बैंक खाते संचालित हो रहे थे, जिनका प्रयोग कालेधन के हेरफेर में किया जाता था। 2.24 लाख कंपनियों पर ताले लग गए। इस मौके पर भाजपा के जिला प्रभारी सत्येंद्र कुमार, विभिन्न संगठनों से अशोक भालोटिया, मुरलीधर केडिया, छविराज दहल , हरमिंदर सिंह, कमल जैन, दिनेश चौधरी, डॉ अजय अग्रवाल, डॉ. रजनी सोडेरा सहित अन्य लोग मौजूद थे।