DA Image
हिंदी न्यूज़ › झारखंड › जमशेदपुर › तीन साल में ही एमजीएम कॉलेज का ऑडिटोरियम क्षतिग्रस्त
जमशेदपुर

तीन साल में ही एमजीएम कॉलेज का ऑडिटोरियम क्षतिग्रस्त

हिन्दुस्तान टीम,जमशेदपुरPublished By: Newswrap
Mon, 27 Sep 2021 05:01 PM
तीन साल में ही एमजीएम कॉलेज का ऑडिटोरियम क्षतिग्रस्त

वर्ष 2016 में लाखों की लागत से बना एमजीएम मेडिकल कॉलेज का ऑडिटोरियम 2019 में ही क्षतिग्रस्त हो गया। उस साल आए तूफान के बाद से इसकी फॉल्स सीलिंग टूट-टूटकर गिर रही है। इसके कारण सुरक्षा के दृष्टिकोण से इसे बंद कर दिया गया है। यही नहीं, बारिश का पानी भी ऑडिटोरियम में घुस जा रहा है। इसके कारण अंदर मिट्टी जम जा रही है।

सुरक्षा के दृष्टिकोण से इस बंद पड़े ऑडिटोरियम को रविवार को विधानसभा की प्राक्कलन समिति ने भीतर घुसकर देखा। साथ में समिति के सदस्य लंबोदर महतो, कॉलेज के प्राचार्य डॉ. केएन सिंह, पूर्व प्राचार्य डॉ. मंधान सहित कई प्रोफेसर और डीडीसी परमेश्वर भगत, डीआरडीए निदेशक सौरव सिन्हा एवं एनइपी की निदेशक ज्योत्सना सिंह भी थीं। ऑडिटोरियम की दशा देखने के बाद समिति के सभापति दीपक बिरुवा ने कहा कि यह बेहद गंभीर मामला है। स्वास्थ्य विभाग के तत्कालीन इंजीनियरिंग सेल ने इसका निर्माण कराया था। वे इसके इंजीनियर के खिलाफ कार्रवाई की अनुशंसा करेंगे। प्राचार्य ने बताया कि पांच साल पहले जब यह बना था, तब सतह से करीब एक फुट ऊपर था। परंतु एलएंडटी ने जब नए भवन का काम शुरू किया तो सड़क को ऊंचा कर दिया। इसके बाद ऑडिटोरियम में नीचे हो गया है। चूंकि यह पहाड़ से सटा है इसलिए जब बारिश होती है तो ऊपर से पानी बहकर नीचे आता है और ऑडिटोरियम में घुस जाता है। इसके कारण अब यह अनुपयोगी हो गया है और ऑडिटोरियम के अभाव में कार्यक्रम नहीं हो पा रहे हैं।

संबंधित खबरें