DA Image
29 फरवरी, 2020|11:23|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

महासंग्राम 2019 : जमशेदपुर में तकनीक के सहारे व्यूह रचने में जुटा झामुमो

महासंग्राम 2019 : जमशेदपुर में तकनीक के सहारे व्यूह रचने में जुटा झामुमो

लोकसभा चुनाव में जमशेदपुर सीट से महागठबंधन की ओर से प्रत्याशी घोषित होने के बाद अब भाजपा और झामुमो ने जीत की व्यूह रचना शुरू कर दी है। आमतौर पर खुद को मानुष-माटी बताकर मजबूत कैडर की दुहाई देने वाले झामुमो ने भी इस बार पेशेवरों के साथ उन्नत तकनीक का सहारा लेना शुरू कर दिया है। इस चुनाव में भाजपा ने यहां से फिर निवर्तमान सांसद विद्युतवरण महतो पर दांव खेला है तो महागठबंधन की ओर से झामुमो के विधायक और पूर्व मंत्री चंपई सोरेन मैदान में हैं। क्षेत्र में भाजपा पहले से ही हर तरह की तकनीक से लैस है। चुनाव प्रचार के तरीके को डिजिटल जामा पहनाने का काम उसने यहां वर्ष 2013 में ही शुरू कर दिया था। इस संसदीय क्षेत्र में खासा प्रभाव रखने वाले झामुमो ने अब तक पारंपरिक प्रचार शैली को ही तरजीह दी थी। उसे अपने कार्यकर्ताओं और उनकी पारंपरिक व्यूह नीति पर पूरा भरोसा था, पर पिछले लोकसभा और विधानसभा चुनाव के परिणाम को देखते हुए उसने भी प्रचार के डिजिटल स्वरूप को स्वीकार कर लिया है। इसके लिए युवाओं को पार्टी से जोड़ने की रणनीति बनाई गई है। पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष और नेता प्रतिपक्ष हेमंत सोरेन ने इस 6 अप्रैल को घाटशिला और बहरागोड़ा विधानसभा क्षेत्र के कार्यकर्ताओं के प्रशिक्षण अभियान की शुरुआत की थी। इस अभियानके तहत पार्टी कार्यकर्ताओं को चुनावी प्रचार के दिग्गज पेशेवर तकनीक का प्रशिक्षण दे रहे हैं।

पार्टी सूत्रों के अनुसार इसके लिए जिस एजेंसी की मदद ली गई है उसमें प्रबंधन संस्थानों, विश्वविद्यालयों एवं कुछ अन्य जगहों के पेशेवर शामिल हैं। एजेंसी तय कर रही है कि पार्टी की रैली को कैसे प्रभावी रूप से शानदार और आकर्षक बनाया जाए। संसदीय, विधानसभावार, प्रखंडवार, पंचायतवार एवं बूथवार डाटा विश्लेषण, मीडिया मैनेजमेंट और जनसंपर्क के तौर-तरीके बताने और चुनावी रण में उसे पार्टी के सिपाहियों से अक्षरश: लागू कराने की जिम्मेदारी इन पेशेवरों के कंधे पर है।झामुमो के एक नेता ने नाम नहीं छापने की शर्त पर बताया कि पेशेवरों को जमशेदपुर, राजमहल, दुमका और गिरिडीह संसदीय क्षेत्र पर फोकस करने को कहा गया है। फिलहाल चारों लोकसभा क्षेत्रों में विधानसभावार प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित किए गए हैं। इसके बाद प्रखंडवार और पंचायतवार प्रशिक्षण शिविर लगाए जाएंगे। 6 अप्रैल को घाटशिला में प्रत्येक बूथ से चयनित दो-दो सक्रिय कार्यकर्ताओं को प्रशिक्षण शिविर में हिस्सा लेने को बुलाया गया था। इस शिविर में बूथवार वोटरों की संख्या, पिछले बार डाले गए वोटों के आंकड़े, मतदान प्रतिशत में बढ़ोतरी के तरीके बताए गए। दिल्ली से आए पेशेवर युवक घाटशिला के बूथों का आंकड़ा इकट्ठा कर उन्हें वहां मतदान प्रतिशत बढ़ाने के गुर बता रहे हैं। कुछ नए बूथ भी बने हैं जिसकी विस्तृत जानकारी कार्यकर्ताओं को फिलहाल नहीं थी। प्रशिक्षण वर्ग में कुछ ऐसे भी कार्यकर्ता आए थे जिनके बूथ के नंबर बदल चुके हैं, पर जानकारी नहीं है, उन्हें अपडेट किया गया।विधानसभावार प्रशिक्षण के लिए 4-4 पेशेवरों की टीम बनी है। टीम में शामिल युवक-युवतियां प्रखंड एवं पंचायतों में पार्टी की स्थिति का जायजा लेकर अपने नियोक्ता या उनके प्रतिनिधि को न सिर्फ विस्तृत जानकारी मुहैया करा रहे हैं, बल्कि जनसंपर्क करके मतदाताओं को अपने पक्ष में किया जाए, इसके तौर-तरीके भी बता रहे हैं।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Mahasangram 2019 Jamspur in Jamshedpur Jumbo