Investigation Fire in Jamshedpur market is difficult to extinguish - पड़ताल : जमशेदपुर के बाजार में लगी आग तो बुझाना मुश्किल DA Image
17 फरवरी, 2020|7:40|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पड़ताल : जमशेदपुर के बाजार में लगी आग तो बुझाना मुश्किल

पड़ताल : जमशेदपुर के बाजार में लगी आग तो बुझाना मुश्किल

दिल्ली की अनाज मंडी में रविवार सुबह भीषण अग्निकांड में 43 लोगों की मौत के बाद पूरे देश सदमे में हैं। जमशेदपुर भी मजदूरों का शहर है। ऐसे में हिन्दुस्तान ने यहां की स्थिति की पड़ताल की। बिष्टूपुर और साकची मार्केट की सड़कें इतनी तंग हैं कि फायर ब्रिगेड की गाड़ी नहीं पहुंच सकती। ऐसे में बड़ा हादसा हो सकता है।

बिष्टूपुर बाजार का फ्रूट मार्केट इलाका खतरनाक : बिष्टूपुर बाजार के कुछ इलाके ऐसे हैं, जहां दमकल का घुस पाना मुश्किल है। यह इलाका बाजार का फ्रूट लाइन इलाका है। इस बाजार में पहले भी आग लग चुकी है। बाजार में जितनी जगह में दुकान अलाट की गई है, उससे ज्यादा जगह पर सामने अतिक्रमण कर लिया गया है। ऐसे में यदि बाजार में आग लग जाती है तो वहां दमकल का घुस पाना मुश्किल होगा। साकची का संजय मार्केट, मनिहारी लाइन खतरनाक : साकची का संजय मार्केट और मनिहारी लाइन भी ज्यादा खतरनाक है। यहां दमकल का पहुंच पाना मुश्किल है। यहां की गलियां संकरी है। दुकान भी ऐसे बनी हैं कि यहां पानी वाला पाइप तक जा पाना मुश्किल है। संजय मार्केट व मनिहारी लाइन में इससे पहले तीन बार हादसे हो चुके हैं। इसी तरह साकची का टीनाशेड मार्केट भी खतरनाक है। फायर हाइड्रेंट की नहीं होती है जांच : शहर के प्रमुख बाजार इलाकों में फायर हाइड्रेंट की व्यवस्था तो है, लेकिन नियमित जांच नहीं होती है। इसका परिणाम है कि पिछले दिनों बारीडीह बाजार में लगी आग के दौरान जब हाइड्रेंट की जांच की गई तो तीन पर अतिक्रमण पाया गया। अस्पतालों में पर्याप्त सुरक्षा नहीं : एमजीएम में फायर इंस्टीग्यूशर की तो व्यवस्था है, लेकिन वह उसका आकार इतना छोटा है कि यदि आग लगे तो तत्काल काबू नहीं पाया जा सकता है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Investigation Fire in Jamshedpur market is difficult to extinguish