DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जमशेदपुर में मानव तस्करी रोकने के लिए बनेगा ह्यूमन ट्रैफिकिंग थाना

पूर्वी सिंहभूम जिले में भी अब मानव तस्करी रोकने के लिए एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग थाना बनने जा रहा है। उसका नाम हिंदी में आहतू थाना होगा। इसमें मानव तस्करी से जुड़े मामले ही दर्ज किए जाएंगे। इसकी तैयारी शुरू कर दी गई है। साकची थाना परिसर में बनने वाले इस थाने में पुलिस अधिकारियों की एक टीम होगी। इसमें कोल्हान के दूसरे थानों में दर्ज होने वाले मानव तस्करी के बड़े मामलों की जांच भी होगी। सूत्रों के अनुसार, मानव तस्करी रोकने के लिए बनने वाले थाना का प्रारूप पुलिस मुख्यालय में तैयार कर लिया गया है और इस बावज जल्द ही जमशेदपुर पुलिस को सूचना आने वाली है। मानव तस्करी से जुड़े मामलों के साथ ही महिलाओं के लापता होने के मामलों में भी एफआईआर होगी। उस थाने की जिम्मेदारी होगी कि मानव तस्करी के लिए जिनलोगों को जमशेदपुर या फिर उसके आसपास के इलाकों से बाहर ले जाया गया है, उसपर कार्रवाई की जाए। थाना की स्थापना के साथ ही उनकी निगरानी में वह प्लेसमेंट कंपनियां होंगी, जो युवाओं का चयन कर उन्हें राज्य से बाहर काम कराने लेकर जाते हैं। उन एजेंसियों में कुछ ऐसे भी हैं, जो लड़कियों को दिल्ली व दूसरे शहरों में दलालों के हाथों दे देते हैं। सहूलियत साकची थाना में ही तैयार होगा कक्ष, जिसमें कर सकते हैं शिकायत थाना में इंस्पेक्टर सहित होंगे अन्य पुलिस पदाधिकारी शहर से लड़कियों को काम पर ले जाने की आ रही हैं शिकायतें प्लेसमेंट एजेंसियां देती हैं धोखा, अब तक छह लड़कियों को किया गया बरामद मानव तस्करी की स्थिति 2001 से जून 2013 तक राज्य में मानव तस्करी के 254 मामले दर्ज़ किए गए हैं दो बार टाटा नगर रेलवे स्टेशन में 45 लड़कियों को काम कराने के लिए बाहर ले जाते वक्त पकड़ा गया है

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Human Trafficking Station to prevent human trafficking in Jamshedpur