DA Image
28 दिसंबर, 2020|10:44|IST

अगली स्टोरी

किसान आंदोलन की अनदेखी न करे सरकार : बादल

default image

जमशेदपुर। वरीय संवाददाता

कृषि बिल का विरोध कर रहे किसानों के आंदोलन को केंद्र सरकार को समझना चाहिए। किसानों के दर्द को नजरअंदाज करना दुर्भाग्यपूर्ण है। यह बातें झारखंड के कृषि मंत्री बादल पत्रलेख ने सोमवार को तिलक पुस्तकालय में कांग्रेस पार्टी के स्थापना दिवस समारोह में कहीं। मंत्री ने सर्वप्रथम दिल्ली बॉर्डर पर किसान आंदोलन में मृत 33 किसानों के चित्र पर श्रद्धासुमन अर्पित कर नमन किया।

समारोह की अध्यक्षता जिला अध्यक्ष बिजय खां ने की। संचालन संजय सिंह आजाद और स्वागत ब्रजेन्द्र तिवारी ने किया। स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता एवं बादल पत्रलेख ने कांग्रेस पार्टी का चरखा छाप झंडा फहराया। दोनों मंत्रियों को गांधी टोपी, अंगवस्त्र एवं फूलों से स्वागत किया। जिला कमेटी के वरिष्ठ नेता रामाश्रय प्रसाद, केके शुक्ला, अवधेश सिंह, एलबी सिंह, खगेन चंद्र महतो, आनंदमय पात्रा, पीएन झा, पंकज कुमार मंडल, मृत्युंजय महतो, एके फालगुनी घोष, धीरेंद्र नाथ मुंडा, भगवान हेम्ब्रम, ज्योत्सना सरदार समेत कई कांग्रेसियों को संगठन की सेवा के लिए सम्मानित किया गया।

कार्यक्रम को सफल बनाने में योगेंद्र सिंह यादव, ऋषि मिश्रा, सांसद प्रतिनिधि राज्यसभा, प्रिंस सिंह, नूरजहां वारसी, अशोक सिंह, राजकिशोर प्रसाद, जसाई मार्डी, नजीर अफसर खान, बबलू झा, अभिजीत सिंह, मो. सगीर, मो. सुल्तान, आमिर सुहैल, पवन कुमार बबलू, रंजीत सिंह, प्रमोद मिश्रा का योगदान रहा।

इधर, जिलाध्यक्ष बिजय खां के नेतृत्व में कांग्रेस कार्यालय से बिष्टूपुर तक तिरंगा यात्रा एवं कृषि बिल के विरोध में थाली बजाओ कार्यक्रम हुआ। जिसमें ऊषा यादव, अपर्णा गुहा, संजय तिवारी, शहनाज रफीक, रियाजुद्दीन खान, शफी अहमद खान, मौलाना अंसार खान, मो. इस्माईल, बिजय यादव, बलराम महतो, फूल चंद महतो, सरत महतो, रईस शेख, बबलू नौशाद, संजय प्रसाद आदि शामिल हुए।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Government should not ignore the farmer movement Badal