DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

टेम्पो की कीमत से ज्यादा उसका जुर्माना ही

टेम्पो की कीमत से ज्यादा उसका जुर्माना ही

जमशेदपुर में 700 टेम्पो ऐसे चल रहे हैं, जिन्होंने 12 वर्षों से अपनी गाड़ी का फिटनेस प्रमाणपत्र नहीं लिया है। अब जब उनका आकलन किया जा रहा है तो यह राशि दो लाख रुपये से ज्यादा हो रही है। जिस टेम्पो पर जुर्माना बन रहा है, उसे यदि अभी बेचा जाए तो उसकी कीमत उस गाड़ी पर लगे जुर्माना से काफी कम होगी। पूर्वी सिंहभूम जिले से पंजीकृत 25 हजार टेम्पो में से 17500 का फिटनेस फेल है। जिनके पास फिटनेस प्रमाणपत्र हैं, वे नए वाहन हैं। चालकों के कागजात की जब जांच की गई तो उन्हीं से पता चला कि फिटनेस फेल था, लिहाजा उसके डर से वाहन मालिक दूसरे कागजात बनाने परिवहन विभाग नहीं गए। लिहाजा एक बार फिटनेस फेल होने के बाद इतना जुर्माना लगा कि मामला लटकता गया। इधर, व्यावसायिक वाहनों का फिटनेस प्रमाणपत्र प्रति वर्ष बनाना है। फिटनेस का शुल्क 750 निर्धारित है, लेकिन फेल होने के बाद हर दिन 50 रुपये जुर्माना लगता है। यह है मामला : शहर में यातायात पुलिस ने टेम्पो के कागजात की जांच शुरू की थी। इसमें फिटनेस प्रमाणपत्र, ड्राइविंग लाइसेंस, बीमा के कागजात देखे गए। इस पर टेम्पो चालक संघ ने आंदोलन शुरू किया। इसमें अधिकांश के कागजात फेल मिले। उसके बाद शहर में टेम्पो चालकों के संगठन ने आंदोलन शुरू किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:fine more than tempo cost in jamshedpur.