DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

विपदातारिणी पूजा में उमड़े श्रद्धालु

विपदातारिणी पूजा में उमड़े श्रद्धालु

कदमा रंकिणी मंदिर एवं घोड़ाबांधा टेल्को स्थित सार्वजनिक काली मंदिर में मंगलवार को मां विपदातारिणी की पूजा हुई। संकट से बचने और परिवार में मंगल कामना के लिए हजारों लोगों ने पूजा की। मान्यता है कि विपदातारिणी की पूजा से हर प्रकार के कष्ट दूर होते हैं। परिवार के सदस्यों को सभी प्रकार की विपत्तियों से मुक्ति मिलती है। बांग्लाभाषी मां दुर्गा के ही एक रूप को विपदातारिणी माता के रूप में पूजते हैं। मंदिरों में मेले जैसा नजारा : मंगलवार सुबह से ही भक्तों की भीड़ शहर के मंदिरों में उमड़ने लगी थी। मंदिर में मेले सा नजारा बना रहा। पूजा के बाद पुरोहित ने मंत्रोच्चारण के साथ लाल धागे में दूब बांधकर व्रती के हाथों में बांधा। बताया जाता है कि इस लाल धागे से परिवार के सदस्यों को सभी प्रकार की विपत्तियों से मुक्ति मिलती है। 13 प्रकार के फल चढ़ाए : महिलाओं ने बताया कि विपदातारणी की पूजा में 13 प्रकार के फल प्रसाद के रूप में चढ़ाए जाते हैं। फल में सेब, केला, कटहल, अनार, आम, पुरी, हलवा एवं फूल आवश्यक माना जाता है। इससे मां विपदातारिणी प्रसन्न होती हैं। कदमा के मंदिर प्रबंधन ने बताया कि 15 वर्षों से मंदिर में मां की पूजा की जा रही है। इस बार करीब 200 व्रतियों के लिए पूजा एवं प्रसाद का इंतजाम किया गया। पूजन के सफल आयोजन के लिए कमिटी के सभी सक्रिय सदस्यों के सहयोग रहा I

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Fellow pilgrims in Vipadartini Puja