Every CRP will inspect 24 schools in a month - हर सीआरपी करेगा महीने में 24 स्कूलों का निरीक्षण DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हर सीआरपी करेगा महीने में 24 स्कूलों का निरीक्षण

सरकार ने शिक्षा में गुणात्मक सुधार के उद्देश्य से ई-विद्यावाहिनी योजना शुरू की है। इसके माध्यम से स्कूलों में शिक्षकों व विद्यार्थियों की उपस्थिति और मिड डे मील सुनिश्चित करने के लिए सभी स्कूलों को प्रतिदिन ऑनलाइन रिपोर्ट देने का आदेश है। पर, अबतक जिले में सिर्फ 60 प्रतिशत स्कूलों से ही डाटा प्राप्त हो रहा है। ऐसे में प्रखंडवार क्लस्टर रिसोर्स पर्सन (सीआरपी) को प्रतिमाह कम से कम 24 स्कूलों का भौतिक निरीक्षण करने का आदेश दिया गया है। प्रतिमाह 76 बच्चों की देनी होगी रिपोर्ट : ई-विद्यावाहिनी योजना में स्कूलों की मॉनिटरिंग के लिए कुल 162 में से 146 बीआरपी-सीआरपी को ड्यूटी पर लगाया गया है। इन्हें स्कूल में जाकर शिक्षक उपस्थिति, विद्यार्थी उपस्थिति, मिड डे मील वितरण और स्कूल में उपलब्ध मूलभूत सुविधाओं का निरीक्षण कर पोर्टल पर प्रतिदिन डाटा अपलोड करने का आदेश है। पर अबतक केवल 142 बीआरपी/सीआरपी से ही रिपोर्ट मिल रही है। कम रिपोर्ट करने वाले बीआरपी/सीआरपी पर कार्रवाई करने की चेतावनी दी गई है। फर्जी रिपोर्ट, स्कूल और सीआरपी के डाटा में अंतर : गत दिनों ई-विद्यावाहिनी को लेकर शिक्षा विभाग द्वारा की गई समीक्षात्मक बैठक में पता चला कि पोर्टल पर स्कूलों द्वारा भेजी जा रही रिपोर्ट और बीआरपी/सीआरपी की रिपोर्ट में काफी अंतर है। ऐसे में विभाग को अंदेशा है कि कई बीआरपी/सीआरपी बिना स्कूल जाये, फर्जी तरीके से रिपोर्ट पोर्टल पर डाल रहे हैं। जमशेदपुर, पटमदा और बोड़ाम प्रखंड की स्थिति सबसे खराब है। ऐसे में विभाग ने 15 दिन का अल्टीमेटम देते हुए स्थिति सुधारने का आदेश दिया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Every CRP will inspect 24 schools in a month