DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ट्रेनों के गेट पर रात में न बैठें यात्री

ट्रेन यात्रियों को रात में गेट पर नहीं बैठना चाहिए। टाटानगर समेत देशभर में आरपीएफ के जवान यह जागरूकता अभियान चला रहे हैं, क्योंकि इन दिनों बोगी से गिरकर घायल होने व मरनेवाले यात्रियों की संख्या बढ़ गई है। दरअसल, कोच के गर्म माहौल से बचने के लिए लोग विशेषकर युवा यात्री ट्रेनों के गेट (पायदान) पर बैठना पसंद करते हैं, जिससे शरीर में हवा लगे। लेकिन ठंडी हवा के झोंके से नींद लगने पर चलती ट्रेन से गिर जाते हैं। वहीं, आरपीएफ जवानों द्वारा गेट व खिड़की बंद कराने पर यात्री भड़कते हैं। जुर्माना का प्रावधान : रेलवे में ट्रेनों के पायदान पर बैठकर यात्रा करने में जुर्माना का प्रावधान है। सुरक्षित यात्रा योजना के लिए स्टेशन पूछताछ केंद्र से जागरूकता के तहत घोषणा भी होती है, लेकिन लोग जानबूझकर खतरे को आमंत्रण देते हैं। आरपीएफ जवान विभिन्न स्टेशनों व ट्रेनों की बोगियों में माइक से घोषणा व पर्चा वितरण कर पायदान न बैठने का अनुरोध यात्रियों से करते हैं, लेकिन गर्मी में आरपीएफ के सुझाव की उपेक्षा कर यात्री दुघर्टना के शिकार हो रहे हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Do not sit at night at train gate