DA Image
24 अक्तूबर, 2020|3:19|IST

अगली स्टोरी

रामभक्तों पर कांग्रेस ने वर्षों तक किया अत्याचार : रघुवर दास

रामभक्तों पर कांग्रेस ने वर्षों तक किया अत्याचार : रघुवर दास

1 / 2अयोध्या में छह दिसम्बर 1992 बाबरी मस्जिद विवादित ढांचा विध्वंस मामले में सीबीआई की विशेष अदालत ने 28 साल बाद अपना फैसला सुना दिया है। अदालत ने सभी को बरी कर दिया है, जिनमें भाजपा और आरएसएस के कई...

रामभक्तों पर कांग्रेस ने वर्षों तक किया अत्याचार : रघुवर दास

2 / 2अयोध्या में छह दिसम्बर 1992 बाबरी मस्जिद विवादित ढांचा विध्वंस मामले में सीबीआई की विशेष अदालत ने 28 साल बाद अपना फैसला सुना दिया है। अदालत ने सभी को बरी कर दिया है, जिनमें भाजपा और आरएसएस के कई...

PreviousNext

अयोध्या में छह दिसम्बर 1992 बाबरी मस्जिद विवादित ढांचा विध्वंस मामले में सीबीआई की विशेष अदालत ने 28 साल बाद अपना फैसला सुना दिया है। अदालत ने सभी को बरी कर दिया है, जिनमें भाजपा और आरएसएस के कई दिग्गज नेताओं के नाम शामिल थे। न्यायालय के उक्त फैसले के बाद देशभर में खुशी का माहौल है। जमशेदपुर में भी भाजपाइयों ने जमकर खुशियां मनाईं। झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रघुवर दास के एग्रिको स्थित आवास के समक्ष भाजपा की ओर से मिठाइयां बांटकर जश्न मनाया गया। इस दौरान एक दूसरे को लड्डू खिलाकर खुशी का इजहार किया गया। रघुवर दास ने इस फैसले को ऐतिहासिक बताते हुए कहा कि कांग्रेस के कारण वर्षों तक अयोध्या मामला लटका रहा और रामभक्तों पर सरकारी तंत्रों का दुरुपयोग करते हुए अत्याचार हुआ। अब यह फैसला साबित करता है कि तत्कालीन कांग्रेस सरकार द्वारा राजनीतिक पूर्वाग्रह से ग्रसित होकर, वोट बैंक की राजनीति के लिए देश के पूज्य संतों, बीजेपी नेताओं, संघ और विहिप से जुड़े पदाधिकारियों एवं समाज से जुड़े विभिन्न संगठनों के पदाधिकारियों को बदनाम करने के लिए उन्हें झूठे मुकदमों का व्यूह रचा गया था। रघुवर दास ने मांग की कि इसके लिए जिम्मेदार कांग्रेस देश की जनता से माफी मांगे। इस दौरान भाजपा प्रदेश मंत्री रीता मिश्रा, पूर्व जिलाध्यक्ष रामबाबू तिवारी, पूर्व जिलाध्यक्ष दिनेश कुमार, कुलवंत सिंह बंटी, विप्लव कुमार, अभिषेक सिंह, कपिल महतो आदि मौजूद थे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Congress tortured Ram devotees for years Raghuvar Das