Cell kitchen will be made of Tatanagar station - टाटानगर स्टेशन की जनाहार कैंटीन बनेगी सेल किचन DA Image
18 फरवरी, 2020|6:51|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

टाटानगर स्टेशन की जनाहार कैंटीन बनेगी सेल किचन

टाटानगर स्टेशन की जनाहार कैंटीन बनेगी सेल किचन

टाटानगर स्टेशन का बेस किचन और जनाहार कैंटीन सेल किचन बनेगा। खानपान की गुणवत्ता सुधारने के लिए आईआरसीटीसी में यह योजना बनी है। इससे कैंटीन में चिल्ड रूम बनाने की तैयारी है, जिससे तैयार खाना 45 दिन तक सुरक्षित रहेगा। कैंटीन में टोकन सिस्टम शुरू होगा। यात्रियों को कैंटीन की तरह बैठकर खाने की सुविधा नहीं मिलेगी। काउंटर से खाद्य सामग्री लेकर यात्रियों को खड़े होकर ही खाना पड़ेगा। नई व्यवस्था शुरू करने के लिए कैंटीन एवं किचन दो-तीन महीने के लिए बंद हो सकते हैं। इससे कैटरिंग मैनेजर आरएन मिश्रा, कैंटीन ठेकेदार गोवर्धन सिंह और इंजीनियरिंग अधिकारी बेस किचन के लिए जमीन तलाश रहे हैं, ताकि ट्रेनों में खाना-नाश्ता चढ़ाने का वैकल्पिक उपाय हो सके। एक घंटे में बनती हैं हजार रोटियां: आईआरसीटीसी ने टाटानगर की कैंटीन और बेस किचन में एक घंटे में हजार रोटियां बनाने की मशीन लगाई है। 25 किलो चावल-दाल तैयार करने के लिए वॉयलर मशीन की सुविधा है। कैंटीन में बेस किचन खोलने के साथ रोटी बनाने की मशीन लगी थी। सुधार के लिए कैंटीन व कीचन को अलग करने की योजना बनी है।सभी ट्रेनों में चढ़ेगा खाना: बेस किचन को अलग करने के बाद टाटानगर से लंबी दूरी की हर ट्रेन में खाना-नाश्ता चढ़ेगा। इससे ट्रेनों की पेंट्रीकार में कुकिंग सिस्टम बंद करने की योजना भी सफल होगी। अभी सिर्फ मुंबई-पुणे दुरंतो व गीतांजलि एक्सप्रेस में खाना चढ़ता है। राजधानी एक्सप्रेस के लिए खाने का पैकेट जुगसलाई का कैटरिंग ठेकेदार पहुंचाता है। रेललाइन की मशीन से मरम्मत: सुरक्षित ट्रेन परिचालन योजना के मद्देनजर गुरुवार दोपहर सलगाझुड़ी केबिन से टाटानगर स्टेशन तक अप रेललाइन ब्लॉक हुआ था। इस दौरान मशीन से लाइन की जांच करने के साथ ग्रेंडिड प्रणाली से मरम्मत कराई गई।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Cell kitchen will be made of Tatanagar station