DA Image
21 सितम्बर, 2020|10:35|IST

अगली स्टोरी

बोर्ड परीक्षा : सिर्फ 33 फीसदी ऑलनलाइन क्लास से जुड़े, छात्रों की बढ़ी चिंता

बोर्ड परीक्षा :  सिर्फ 33 फीसदी ऑलनलाइन क्लास से जुड़े, छात्रों की बढ़ी चिंता

तेजी से फैल रही कोरोना महामारी के कारण उन विद्यार्थियों की चिंता बढ़ने लगी है, जो अगले साल दसवीं और बारहवीं की बोर्ड परीक्षा देंगे। पिछले छह महीने से स्कूल-कॉलेज बंद हैं। अब सितंबर में भी शिक्षण संस्थान बंद ही रहेंगे। छात्रों को ऑनलाइन का ही सहारा है, लेकिन सरकारी स्कूलों में इसका फायदा केवल 33 फीसद विद्यार्थियों को ही मिल रहा है। 67 फीसद विद्यार्थी अब भी ऑनलाइन क्लासेज से वंचित हैं। उन तक किसी भी प्रकार का कंटेंट या पाठ्य सामग्री नहीं पहुंच पा रही है। शिक्षकों से इंटरेक्ट भी नहीं हो पा रहा है। लिहाजा वे समस्या का समाधान ढूंढने में असमर्थ हैं। बोर्ड परीक्षा को लेकर स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग द्वारा सिलेबस को 40 से 60 फीसद कम करने की बात कही जा रही है। सिलेबस से उन सभी चैप्टर को हटा दिया जाएगा, जो पिछले क्लास में छात्र पढ़ चुके हैं। लेकिन अब तक इस पर कोई भी दिशा निर्देश जारी नहीं किया गया है। ऐसे में छात्र असमंजस में हैं कि क्या पढ़ें और क्या नहीं। वहीं जो छात्र ऑनलाइन से जुड़े हैं, उनके लिए कई योजनाएं और डिजिटल कंटेंट की तैयारियां कई स्तर पर किये जा रहे हैं। लेकिन सरकारी स्कूल के ऐसे छात्र जो ऑनलाइन से वंचित हैं उनकी खबर लेने वाला कोई नहीं हैं। अक्टूबर में भी स्कूल खुलेंगे इसकी कोई गारंटी नहीं है। ऐसे में ऑनलाइन से वंचित छात्रों को परेशानी हो रही है। जिसका असर बोर्ड परीक्षा के रिजल्ट पर पड़ सकता है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Board exams Only 33 join online class students 39 concern increased