DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बेटिकट ट्रे6न यात्रियों की टाटा से राउरकेला तक खैर नहीं

हावड़ा-मुंबई रेलमार्ग की ट्रेनों में अब बेटिकट यात्रा संभव नहीं होगा। चक्रधरपुर मंडल ने ट्रेन ड्यूटी में टिकट निरीक्षक की संख्या 13 मई से बढ़ा दिया। टाटानगर, राउरकेला और चक्रधरपुर स्टेशन के 15 टिकट निरीक्षक को ट्रेन ड्यूटी में लगाया है ताकि रेलवे प्रावधान के खिलाफ यात्रा करने वालों पर सख्त कार्रवाई हो सके। जबकि चक्रधरपुर रेल मंडल के सभी स्टेशन के करीब सौ टिकट निरीक्षक पहले से ट्रेनों में जांच ड्यूटी करते हैं। दरअसल रेलवे में राजस्व बढ़ाने का अभियान शुरू है। प्रत्येक स्टेशन व ट्रेन ड्यूटी टिकट निरीक्षक को जुर्माना (बेटिकट यात्रा, पैसेंजर टिकट से एक्सप्रेस पर चढ़ने, जनरल टिकट पर आरक्षित बोगी में यात्रा व क्षमता से ज्यादा वजन लेकर यात्रा) वसूलने का अलग-अलग लक्ष्य मिला है। जिसे पूरा करने में ट्रेन ड्यूटी के पुराने टिकट निरीक्षकों का पसीना छूट रहा है। दक्षिण-पूर्व रेलवे जोन के आदेश पर ट्रेनों में जांच ड्यूटी बढ़ाने के लिए टाटानगर, चक्रधरपुर एवं राउरकेला स्टेशनों की इंक्वायरी व्यवस्था एजेंसी को सौंप दिया गया। इंक्वायरी ड्यूटी से मुक्त टिकट निरीक्षकों की तैनाती ट्रेनों में हुई है। इन्हें टाटानगर से हावड़ा, बिलासपुर एवं चांडिल मार्ग की ट्रेनों में जांच करने की जिम्मेदारी मिलेगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: Betacott passengers are not far from Tata to Raurkela