DA Image
हिंदी न्यूज़ › झारखंड › जमशेदपुर › पुलिस बनकर एक ही गिरोह ने दो जगहों पर की लाखों की लूट
जमशेदपुर

पुलिस बनकर एक ही गिरोह ने दो जगहों पर की लाखों की लूट

हिन्दुस्तान टीम,जमशेदपुरPublished By: Newswrap
Sun, 01 Aug 2021 05:41 PM
पुलिस बनकर एक ही गिरोह ने दो जगहों पर की लाखों की लूट

शहर में चोरों के एक गिरोह ने पुलिस बनकर 29 जुलाई की रात 45 मिनट के अंतराल में दो जगहों पर घर में घुसकर हथियार के दम पर लाखों की लूट कर ली। दोनों ही जगहों पर गिरोह के चार सदस्यों अजीत, सोनू, रफीक और पिल्ले ने लूट की घटनाओं को अंजाम दिया। गिरोह ने दोनों जगहों पर रेलवे कर्मचारियों के घरों को अपना निशाना बनाया। हालांकि सूचना के अनुसार पुलिस ने शुक्रवार देर रात को गिरोह के दो सदस्यों को हिरासत में ले लिया है, जबकि अन्य फरार हैं। पुलिस उनकी गिरफ्तारी के लिए छापेमारी कर रही है।

परसूडीह रेलवे लोको कॉलोनी में 18 लाख की लूट

लुटेरों ने पहले परसूडीह लोको कॉलोनी में रेलवे कर्मचारी सह सूद का काम करने वाले टी भाष्कर राव के घर को निशाना बनाया। लुटेरों ने रात करीब 11.15 बजे राव के घर दस्तक देकर खुद को परसूडीह थाना टीम बोलकर गेट खोलने को कहा। गेट खोलते ही गिरोह के सदस्यों ने परिजनों पर पिस्तौल तान दी। एक आरोपी बाहर ही रेकी करता रहा। जबकि तीन ने अंदर जाकर पहले टी भाष्कर राव के परिवार को बांधकर मुंह पर टेप चिपका दिया। अलमीरा से 17 लाख के करीब 25 तोला सोने के गहने और 80 हजार रुपये की लूट कर ली। परिवार को वैसे ही छोड़कर 20 मिनट में गिरोह फरार हो गया। इसके बाद लोगों ने 100 नंबर डायल कर पुलिस को सूचित किया। राव के बयान पर पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू की।

बर्मामाइंस रेलवे कैरेज कॉलोनी में 4.5 लाख की लूट

परसूडीह में घटना को अंजाम देने के बाद यह गिरोह रात 12 बजे बर्मामाइंस थाना अंतर्गत पूर्व रेलवे कर्मचारी स्व. केआर मूर्ति के घर पहुंचा। यहां भी उसी तरह गिरोह ने दस्तक देकर खुद को बर्मामाइंस थाना टीम बताते हुए गेट खुलवाया। गेट खुलते ही गिरोह के तीन सदस्य पिस्तौल दिखाकर घर के अंदर घुस गए और एक बाहर खड़े रेकी करता रहा। यहां पर मूर्ति की पत्नी के जानकी और बेटे के प्रसाद राव को बांध दिया और मुंह पर भी टेप चिपका दिया। इसके बाद गिरोह ने घर से 4 लाख के गहने, चांदी के कीमती बर्तन और 2 हजार लूट लिए। जानकी ने पुलिस को बताया कि गिरोह के दो सदस्यों के पास पिस्तौल थी और उनके मुंह बंधे थे। वे आपस में एक-दूसरे को अजीत, सोनू, रफीक और पिल्ले नाम से बुला रहे थे।

संबंधित खबरें