DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्रशासन के स्ट्रांग रूम जाने से जमशेदपुर से गठबंधन प्रत्याशी चंपई सोरेन

प्रशासन के स्ट्रांग रूम जाने से जमशेदपुर से गठबंधन प्रत्याशी चंपई सोरेन

प्रशासनिक अधिकारियों के मतगणना पूर्व तैयारी के लिए शुक्रवार दोपहर को को-ऑपरेटिव कॉलेज स्थित स्ट्रांग रूम जाने पर विवाद हो गया है। झामुमो के प्रत्याशी चंपई सोरेन भी प्रशासन के पहुंचने की सूचना पाकर को-ऑपेरटिव कॉलेज पहुंच गए थे। वहां उन्होंने मीडिया से कहा कि उन्हें सूचना दिए बिना प्रशासनिक अधिकारियों का स्ट्रांग रूम जाना गलत है। हालांकि, उपायुक्त ने साफ कह दिया कि स्ट्रांग रूम जाने की पूर्व सूचना प्रत्याशियों को दिए जाने का कोई नियम नहीं है। आयोग से उन्हें इस संबंध में इस आशय का कोई दिशा-निर्देश प्राप्त नहीं है। उन्होंने इसे गलतफहमी का परिणाम बताया है। बाद में उपायुक्त ने अपने आवासीय कार्यालय में पत्रकारों को बताया कि 21 मई को निर्वाचन आयोग द्वारा मतगणना का ट्रायल रन किया जाएगा। इसके तहत यह देखा जाएगा कि काउंटिंग सेंटर में जो सुविधाएं होनी चाहिए, वह हैं या नहीं। 72 घंटे पूर्व इसकी रिपोर्ट आयोग को भेजनी पड़ती है कि हमने क्या तैयारी की है। मतगणना की रिपोर्ट तेजी से भेजने के लिए दो लीज लाइन ली जानी है। इसके लिए हम बीएसएनएल के अधिकारी को भी वहां लेकर गए थे। हर चक्र की मतगणना रिपोर्ट सुविधा पोर्टल पर डाली जाएगी, ताकि हर व्यक्ति को ताजा जानकारी मिलती रहे। मतगणना के अलावा हर विधान सभा क्षेत्र के पांच-पांच वीवीपैट की पर्चियों की गिनती भी की जानी है। उसके लिए एक-एक टेबुल लगाना है। यही सब तय करने गए थे। बहुत सी गाड़ियां पहुंचीं इसलिए आ गए-चंपई: इस मामले में चंपई सोरेन का कहना है कि उन्हें सूचना मिली थी कि कॉलेज परिसर में प्रशासन की बहुत सी गाड़ियां पहुंची हैं। वहां ईवीएम की निगरानी कर रहे पार्टी कार्यकर्ताओं ने उन्हें इसकी जानकारी दी तो वे पहुंच गए। वे पहुंचे तो प्रशासनिक अधिकारी निकल रहे थे। डीसी उन्हें स्ट्रांग रूम दिखाने ले गए: प्रशासनिक अधिकारी जब बाहर निकल रहे थे तो चंपई सोरेन को-ऑपरेटिव कॉलेज के गेट पर ही थे। उपायुक्त ने जब उन्हें देखा तो वे उन्हें लेकर गए और स्ट्रांग रूम की पूरी सुरक्षा व्यवस्था ले जाकर दिखाई। नियमित निरीक्षण रिपोर्ट भेजने का है आदेश-डीसी: डीसी अमित कुमार ने कहा कि स्ट्रांग रूम की व्यवस्था पूरी तरह पारदर्शी है। उन्हें स्ट्रांग रूम का नियमित निरीक्षण कर आयोग को रिपोर्ट भेजने का आदेश है। मगर प्रवेश करने पर लॉग बुक में इंट्री करनी पड़ती है। तीन स्तरीय सुरक्षा व्यवस्था है। अंदर सीसीटीवी कैमरे लगे हैं। यही नहीं, प्रत्याशियों को खुद या उनके प्रतिनिधि को अंदर रहकर सारी गतिविधियों पर निगरानी की छूट मिली हुई है। सीसीटीवी कैमरे में चल रही गतिविधियां भी लाइब्रेरी हॉल में देखा जा सकता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: alliance candidate Champai Soren became angry to entered administration in strong room