Wednesday, January 26, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ झारखंड जमशेदपुर29 दिन में मिले 120 पॉजिटिव, कदमा, टेल्को, मानगो हॉट जोन

29 दिन में मिले 120 पॉजिटिव, कदमा, टेल्को, मानगो हॉट जोन

हिन्दुस्तान टीम,जमशेदपुरNewswrap
Tue, 30 Nov 2021 05:10 PM
29 दिन में मिले 120 पॉजिटिव, कदमा, टेल्को, मानगो हॉट जोन

कोरोना संक्रमण बढ़ रहा है। नवंबर के 29 दिनों में जिले में 120 पॉजिटिव मिले हैं, जो प्रतिदिन औसतन 4.13 मरीज मिलने को दर्शाता है। उस वक्त जब नवंबर की शुरुआत में कोरोना के तीसरे वेव से निजात की बात की जा रही थी उसमें महज 29 दिनों में 120 संक्रमितों का मिलना बेहतर संकेत नहीं है।

सिर्फ ट्रूनेट में 82 संक्रमित मिलना खतरनाक

इसमें सर्वाधिक पॉजिटिव 82 ट्रूनेट जांच में सामने आए हैं। इसमें अधिकांश ऐसे लोग थे जो बीमार थे और उनकी ट्रूनेट जांच हुई। ट्रूनेट जांच को कोरोना का सर्वोत्तम और गहनता वाला जांच माना जाता है। उसमें संक्रमित है तो उसके डेड सेल तक मिलते हैं। यानी उनके अंदर कोरोना वायरस जकड़ा हुआ था।

कदमा और मानगो हॉट जोन

पहले और दूसरे वेव में कोरोना संक्रमण मे मानगो और साकची हॉट जोन रहा है। यहां सर्वाधिक संक्रमित मिले। एक ही परिवार के चार- चार लोग पॉजिटिव पाए गए। दूसरे वेव में पूर्वी सिंहभूम में कोरोना संक्रमण के दूसरे वेव में सर्वाधिक प्रभावित इलाका कदमा रहा। यहां सर्वाधिक संक्रमित मिले। इसी तरह दूसरे नम्बर पर टेल्को, जबकि तीसरे नम्बर पर मानगो रहा। अप्रैल से लेकर अक्तूबर तक के आंकड़ों से पता चलता है कि जिले में कुल संक्रमितों की संख्या दूसरे वेव में 29289 थी, जिसमें 15.12% यानी 4428 मरीज कदमा इलाके के थे। इसी तरह टेल्को में 3625 तो मानगो 2682 पॉजिटिव पाए गए थे।

संक्रमित होकर भी छुपना मुख्य कारण

इन तीन इलाको में सर्वाघिक संक्रमित मिलने का कारण था कि यहां लोगों के द्वारा संक्रमित होकर भी खुद को छुपाया गया। जब संक्रमित मिला और उसकी कांटैक्ट ट्रेसिंग की गयी तो पता चला कि संक्रमण का विस्तार जहां से हुआ उसने अपना मर्ज छुपाया था। इसके साथ ही दूसरा कारण था कि इन इलाकों में संक्रमण से बचने के एहतियात कम बरते गए और जांच कराने के लिए लोग कम आए।

तीन इलाको में सर्वाधिक वैक्सीनेशन

इन इलाकों में रोक के लिए जिला प्रशासन की तरफ से सबसे पहले वैक्सीनेशन को आधार बनाया गया। इन तीन इलाकों के अलावा सर्वाधिक संक्रमित मिलने वाले 10 क्षेत्रों में टीकाकरण के अधिक कैम्प लगाए गए। साथ ही एक संक्रमित मिलने के बाद कांटैक्ट ट्रेसिंग के आधार पर जांच करायी गयी।

epaper

संबंधित खबरें