DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सलोनी और सुनैना के नाम से जाने जाएंगे जू के शावक

क्रासर- बाघ दिवस पर मिला नामलाटरी से पांच सौ नामों में बच्चों ने किया चयनसाल भर पहले हुआ था जन्म, नहीं हो पाया था नामकरणजमशेदपुर संवाददाताविश्व बाघ दिवस के अवसर पर रविवार को टाटा जू में 23 अगस्त 2017 को जन्में शावकों का नामकरण किया गया। शहरवासियों ने शावकों के लिए 457 नाम सुझाए थे, जिनमें से लॉटरी के जरिये दो नाम सलोनी और सुनैना चुने गये।शावकों का जन्म बाघिन डोना (बंगाल टाइगर) और सफेद बाघ कैलाश से हुआ था। कैलाश टाटा चिड़ियाघर का एकमात्र सफेद बाघ है, जिसे दो मार्च 2014 को तिरुपति के श्री वेंकटेश्वर जूलॉजिकल पार्क से लाया गया था। जबकि डोना का जन्म 16 अप्रैल 2012 को टाटा चिड़ियाघर में हुआ था।विश्व बाघ दिवस के अवसर पर इस साल टाटा स्टील जूलॉजिकल पार्क ने में बाघों के संरक्षण को लेकर पोस्टर प्रेजेंटेशन, कीपर टॉक, टच एन लर्न एवं शावकों के नामकरण कार्यक्रम का आयोजन किया गया। 23 अगस्त, 2017 को वर्ष। नामकरण के लिए नाम का सुझाव 5 फरवरी से 1 मार्च तक ईमेल और ड्रॉप बॉक्स के माध्यम से शहरवासियों द्वारा दिया गया। जनता के सुझाए गए नामों में से दोनों मादा शावकों के लिए 214 नामों को सूचीबद्ध किया गया था। जिनमें से दो नामों को सैलानियों एवं स्कूली बच्चों के बीच आयोजित लॉटरी से चुना गया। इस अवसर पर शावकों के नामकरण के विजेता बालिगुमा के बैदनाथ कुमार पंडित (सुझाए गए नाम- सलोनी) एवं गम्हरिया की रीता महतो (सुझाए गए नाम - सुनैना) रहीं।मौके पर टाटा जू के निदेशक विपुल चक्रवर्ती, क्यूरेटर संजय कुमार महतो, एजुकेशन ऑफिसर डॉ. सीमा रानी, केपीएस एनएमएल से संजीता सरकार, केपीएस बर्मामांइस से सुमन सरकार, उत्क्रमित हाई स्कूल सरायकेला से प्रकाश महतो समेत लगभग 65 स्कूली विद्यार्थियों और आगंतुकों ने भाग लिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सलोनी और सुनैना के नाम से जाने जाएंगे जू के शावक सलोनी और सुनैना के नाम से जाने जाएंगे जू के शावक