अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

झारखंड बैडमिंटन एसोसिएशन पर 52 लाख की बिजली चोरी का आरोप

झारखंड बैडमिंटन एसोसिएशन पर 52 लाख की बिजली चोरी का आरोप

टाटा स्टील की टाउन इलेक्ट्रक्लि विभाग ने झारखंड बैडमिंटन एसोसिएशन (जेबीए) पर 51 लाख 98 हजार 804 रुपये की बिजली चोरी का आरोप लगाया गया है। इस संबंध में टाउन इलेक्ट्रक्लि की ओर से एक नोटिस मोहन आहुजा इंडोर स्टेडियम में चिपका दी गई है।

डीजीएम का आरोप : टाउन इलेक्ट्रक्लि के डीजीएम ने झारखंड बैडमिंटन संघ के सचिव प्रभाकर राव को लिखे पत्र में कहा कि उनकी टीम जब स्टेडियम का निरीक्षण किया, तो पाया कि स्टेडियम के भीतर आरवाइबी के सभी तीन फेज मीटर को बाइपास किए हुए हैं। इतना ही नहीं लीड्स भी जले हुए मिले तथा अत्याधिक लोड के कारण इंसुलेशन भी जल चुके थे।

हजम नहीं हुआ जवाब : डीजीएम ने प्रभाकर राव को आगे लिखा है कि इस बाबत जब आपसे जवाब मांगा गया, तो आपने ईधर-उधर की बातें कर मामले को टालने की कोशिश की है। आपका कहना है कि मोहन आहुजा शादी के लिए किराया पर दिया जाता है, अत: हो सकता है कि वहां टेंट का काम करनेवाले ने बिजली से कुछ छेड़-छाड़ की हो। हम आपके इस जवाब से संतुष्ट नहीं हैं। आपके घर में चोरी हो और आपको ही पता नहीं चले ऐसा कैसे हो सकता है।

10 फरवरी को करना था भुगतान

टाटा स्टील टाउन इलेक्ट्रक्लि की टीम ने 24 दिसंबर 2017 को स्टेडियम का निरीक्षण किया था। इसके बाद 27 दिसंबर को प्रभाकर राव को नोटिस भेजा गया था। टाउन इलेक्ट्रक्लि की मानें, तो 27 जनवरी 2018 को दिए जवाब में प्रभाकर राव ने बिजली चोरी की बात स्वीकार कर ली थी। इस पर टाउन इलेक्ट्रक्लि ने उन्हें 10 फरवरी 2018 तक बिल का भुगतान करने का निर्देश दिया, अन्यथा उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की बात कही गई थी।

चूकि 10 फरवरी की तिथि पार हो जाने के बाद भी जब जेबीए ने बिजली भुगतान की दिशा में कोई कदम नहीं उठाया, तो टाटा स्टील की टाउन इलेक्ट्रक्लि विभाग ने मंगलवार को देर शाम मोहन आहुजा स्टेडियम की दीवार पर एक नोटिस चिपका दी।

मुझे बिल नहीं मिला है : प्रभाकर राव

इस संबंध में प्रभाकर राव से पूछे जाने पर उनका कहना था कि उन्हें अभी तक बिल की कॉपी नहीं मिली है, जब मिलेगा तब विचार करेंगे।

दूसरी बात उन्होंने यह भी कही कि यदि स्टेडियम में बिजली चोरी हुई है, तो यह टेंट वाले के साथ-साथ पिछली कमेटी के लोगों की साजिश भी हो सकती है, जो लोग दिन-रात मुझे बदनाम करने में लगे रहते हैं। प्रभाकर राव का ईशारा पूर्वी सिंहभूम जिला बैडमिंटन संघ के पूर्व अध्यक्ष राजीव सेनगुप्ता की ओर था।

झारखंड बैडमिंटन के लिए काला दिन : राजीव

दूसरी तरफ पूर्वी सिंहभूम बैडमिंटन एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष राजीव सेनगुप्ता से जब हमने इस मुद्दे पर बात की, तो उनका कहना था कि यदि आरोप सही है तो यह झारखंड बैडमिंटन के लिए काला दिन है।

उन्होंने कहा कि जेबीए में कई लोग आए और गए, बस एक ही व्यक्ति हीं जिन्हें जेबीए की कुर्सी ने अभी तक अपने से चिपकाए रखा है, वे हैं प्रभाकर राव। अत: जेबीए की उपलब्धि और चोरी सबकुछ उनको मुबारक हो। इस मामले में पूर्व कमेटी को दोषी ठहरना हास्यास्पद है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Jharkhand badminton association electricity theft