ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News झारखंड हज़ारीब़ागविभावि का कैंटीन खुला, छात्राओं में उत्साह

विभावि का कैंटीन खुला, छात्राओं में उत्साह

विभावि का बंद आहार कैंटीन नैक विजिट के साथ ही खूल गया। इस कैंटीन का खुलने का इंतजार छात्र छात्राओं के साथ विवि परिवार को भी एक लंबे समय से ...

विभावि का कैंटीन खुला, छात्राओं में उत्साह
हिन्दुस्तान टीम,हजारीबागTue, 14 May 2024 05:45 PM
ऐप पर पढ़ें

हजारीबाग, शिक्षा प्रतिनिधि। विभावि का बंद आहार कैंटीन नैक विजिट के साथ ही खूल गया। इस कैंटीन का खुलने का इंतजार छात्र छात्राओं के साथ विवि परिवार को भी एक लंबे समय से था। आयुक्त सह प्रभारी कुलपति सुमन कैथरीन किस्पोट्टा ने उक्त कैंटीन को दोहरे लाभ के साथ खुलवा दिया। जिससे एक ओर जहां लोगों की लंबित मांगें पूरी हुई, वहीं दूसरी ओर स्थानीय स्तर पर महिलाओं को सशक्त बनाने का प्रयास भी किया गया। इस बार कैंटीन ग्रामीण विकास विभाग के झारखंड स्टेट लाईब्लीहूड प्रमोशन सोसाइटी के माध्यम से महिलाओं के एक एनजीओ दुर्गा सखी मंडल के प्लास आजीविका दीदी कैफे को दिया गया है।
जो दस महिलाओं का एक दल है। इन्हीं लोगों के द्वारा भोजन और नास्ता तैयार कर सर्व किया जाता है। इसके खुलने से लगभग 80 प्रतिशत छात्राएं बेहद उत्साहित हैं कि अब भोजन के लिए परेशान नहीं होना पड़ेगा। बताते चलें कि विवि परिसर में नास्ता के लिए एक कैंटीन चल रहा है । लेकिन भोजन के लिए विवि परिसर के अंदर कोई व्यवस्था नहीं थी। जिसके कारण शिक्षकों, कर्मचारियों और छात्र- छात्राओं समेत दूर दराज से आए पुराने छात्र छात्राएं व अभिभावकों को भोजन के लिए काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता था। अब विवि परिसर स्थित कैंटीन में सस्ते दर पर शुद्ध व स्वादिष्ट भोजन उपलब्ध होगा।

इस संबंध में संचालक लक्ष्मी देवी ने बताया कि भोजन सामग्री में 50 रुपये प्लेट चावल, दाल, सब्जी, मुजिया, पापड़, आचार और 40 रुपये प्लेट 3 रोटी, सब्जी, भुजिया, आचार दर निर्धारित है। विवि की ओर से नैक की तैयारी के तहत कुछ मूलभूत सुविधाएं जो पहले से मुहैया थी लेकिन अपरिहार्य कारणों से एक्टिव नहीं था उसे एक्टिव किया गया है। इस कैंटीन की तारीफ नैक पीयर टीम के चैयरमैन प्रोफेसर एस एस सरकार ने भी की। कहा कि हमने अब तक नैक निरीक्षण को लेकर लगभग एक दर्जन यूनिवर्सिटीज का विजिट किया है। जहां महिलाओं के द्वारा संचालित व व्यवस्थित सस्ते दर की कैंटीन हो। मजे की बात यह है कि छात्र छात्राएं सभी डिजिटल पेमेंट करते हैं। यह महिला सशक्तिकरण का बड़ा फैक्ट सामने है।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।