ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News झारखंड हज़ारीब़ागस्पेशल जेनेरिक परीक्षा में सैकड़ों छात्र हुए असफल, ग्रेस अंक देने की मांग

स्पेशल जेनेरिक परीक्षा में सैकड़ों छात्र हुए असफल, ग्रेस अंक देने की मांग

विभावि की ओर से आयोजित स्पेशल जेनेरिक परीक्षा का रिजल्ट प्रकाशित कर दिया गया है। जिसमें सैकड़ों छात्र छात्राएं असफल हो गये हैं। बताते चलें कि विभावि...

स्पेशल जेनेरिक परीक्षा में सैकड़ों छात्र हुए असफल, ग्रेस अंक देने की मांग
हिन्दुस्तान टीम,हजारीबागMon, 27 May 2024 08:30 PM
ऐप पर पढ़ें

हजारीबाग, शिक्षा प्रतिनिधि
विभावि की ओर से आयोजित स्पेशल जेनेरिक परीक्षा का रिजल्ट प्रकाशित कर दिया गया है। जिसमें सैकड़ों छात्र छात्राएं असफल हो गये हैं। बताते चलें कि विभावि प्रशासन द्वारा सत्र 2015-18 से लेकर 2019-22 तक के पूर्ववर्ती छात्रों के लिए स्पेशल जेनेरिक पेपर की परीक्षा आयोजित की गई थी। जिसमें हजारों के संख्या में छात्र छात्राएं शामिल हुए थे। यह परीक्षा उक्त सत्र के छात्रों द्वारा काफी हो हल्ला और जद्दोजहद के बाद विवि ने आयोजित की थी। लेकिन परीक्षाफल घोषित होने के बाद जारी परिणाम को लेकर एक बार फिर छात्र छात्राएं आंदोलित हो उठे और एक छात्र संगठन के नेतृत्व में परीक्षा नियंत्रक से मुलाकात कर असफल छात्रों की एक सूत्री मांग से पहले अवगत कराया। बताया कि सैकड़ों छात्र छात्राएं एक दो नंबर से फेल कर गए हैं। ऐसे में इन सबको ग्रेस मार्किंग कर उत्तीर्ण करने की कृपा करें।

मौके पर परीक्षा नियंत्रक डॉ सुनील दुबे ने छात्रों की समस्या से अवगत होते हुए कहा कि इस मामले को परीक्षा पर्षद की बैठक में रखा जाएगा और समस्या के समाधान के लिए छात्रहित में उचित निर्णय लिया जाएगा। इसी मामले को लेकर सोमवार को विभिन्न कालेजों के पूर्ववर्ती छात्र छात्राओं ने एनएसयूआई जिला अध्यक्ष अभिषेक राज के नेतृत्व में परीक्षा नियंत्रक से मुलाकात किया और ग्रेस अंक देकर पास करने की मांग की। मौके पर अभिषेक ने कहा विवि के गलत नीतियों के कारण पांच वर्ष बाद फिर से छात्रों को दूसरे जेनेरिक पेपर की परीक्षा देना पड़ा है। जो वैसे छात्रों के लिए एक कठिन कार्य था। जिन्होंने पढ़ाई छोड़ दी थी। बावजूद बेहतर भविष्य के लिए परीक्षा में शामिल हुए। लेकिन उनमें से ज्यादातर लोग एक दो अंक से पिछड़ गये और फेल कर गए हैं। इसे देखते हुए ग्रेस अंक देकर पास कर देना चाहिए। परीक्षा नियंत्रक से भेट के दौरान दर्जनों छात्र छात्राएं मौजूद थे।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।