ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News झारखंड हज़ारीब़ागवायरल बीमारियों से बचाव के लिए जिला प्रशासन ने जारी किया एडवाइजरी

वायरल बीमारियों से बचाव के लिए जिला प्रशासन ने जारी किया एडवाइजरी

मॉनसून काल के दौरान वेक्टर जनित रोग जैसे मलेरिया,डेंगू/चिकनगुनिया एवं जापानीज इन्सेफेलाइटिस जैसी वायरल बीमारियों का खतरा अधिक बना रहता है जिसके लिए...

वायरल बीमारियों से बचाव के लिए जिला प्रशासन ने जारी किया एडवाइजरी
हिन्दुस्तान टीम,हजारीबागTue, 14 May 2024 11:30 PM
ऐप पर पढ़ें

हजारीबाग, नगर प्रतिनिधि
मॉनसून काल के दौरान वेक्टर जनित रोग जैसे मलेरिया,डेंगू/चिकनगुनिया एवं जापानीज इन्सेफेलाइटिस जैसी वायरल बीमारियों का खतरा अधिक बना रहता है जिसके लिए लोगों को जागरूक किया जाना अति आवश्यक है। सिविल सर्जन डॉ सरयू प्रसाद सिंह ने एडवायजरी जारी कर नगर निगम, सभी प्रखण्ड विकास पदाधिकारी एवं अन्य विभागों को पत्र लिखकर डेंगू के बचाव के लिए महत्वपूर्ण निर्देश दिए गए हैं। साथ ही शेख भिखारी मेडिकल के सभी प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी को रोकथाम एवं बचाव के लिए कॉलेज अस्तपाल में डेंगू, मरीजों के अलग वार्ड की व्यवस्था करने के लिए अस्पताल के अधीक्षक से अनुरोध किया है। ताकि वैसे रोगी को बेहतर इलाज दिया जा सके एवं अन्य व्यक्तियों में डेंगू के संक्रमण से बचाया जा सके। डेंगू/ चिकनगुनिया एक वायरल बीमारी है जो संक्रमित मादा एडिज मच्छर के काटने से होता है। इस बीमारी का कोई सटीक दवा या टीका उपलब्ध नहीं है। इसका इलाज लक्षण के आधार पर डॉक्टर के परामर्श के अनुसार ही किया जाता है।

डेंगू/चिकनगुनिया के प्रसार को रोकने के लिए भारत सरकार प्रत्येक वर्ष 16 मई को राष्ट्रीय डेंगू दिवस के रूप में पूरे देश में मनाती है। जिसका मुख्य उद्देश्य इस खतरनाक बीमारी से बचने के लिए जन-जागरूकता एवं लोगों के व्यवहार में परिवर्तन लाना है। जिला स्वास्थ्य समिति हजारीबाग के तत्वाधान में सभी विद्यालयों में विद्यालय जागरूकता कार्यक्रम के तहत रैली, क्वीज प्रतियोगिता तथा ग्राम स्तर पर ग्राम सभा का आयोजन कर लागों को जागरूक किया जाता है। जिला भीबीडी पदाधिकारी डॉ कपिलमुनि प्रसाद ने बताया कि डेंगू के मच्छर साफ एंव स्थिर पानी में पैदा होते हैं। जिनमें नारियल की खोपड़ी, डाभ, कूलर में जमा पानी, पुराने टायर एवं फूलदान आदि इनका प्रमुख प्रजनन स्थल है जिसे समय-समय पर नष्ट किया जाना अति आवश्यक है। घर के आस-पास पानी जमा नहीं होने दें। यह मच्छर दिन में काटते हैं। इसलिए दिन में भी सोते समय मच्छरदानी का प्रयोग अवश्य करें।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
अगला लेख पढ़ें