DA Image
23 अक्तूबर, 2020|5:52|IST

अगली स्टोरी

बारह सूत्री मांग को लेकर चरही सीसीएल महाप्रबंधक कार्यालय के समक्ष धरना-प्रदर्शन

default image

संयुक्त मोर्चा श्रमिक संगठन के बैनर तले 12 सूत्री मांग को लेकर बुधवार को चरही सीसीएल महाप्रबंधक कार्यालय के समक्ष केंद्र सरकार और कोयला प्रबंधन के मजदूर विरोधी नीति तथा कोल माइंस के निजीकरण को लेकर संयुक्त मोर्चा के बीएमएस इंटक, एटक सीटू और एचएमएस ने जमकर नारेबाजी करते हुए धरना प्रदर्शन एवं गेट मीटिंग कर महाप्रबंधक को 12 सूत्री मांग पत्र सौंपा। संयुक्त मोर्चा के नेता भारतीय मजदूर संघ के जिला मंत्री सह क्षेत्रीय सचिव शंकर सिंह, राष्ट्रीय कोलियरी मजदूर संघ के क्षेत्रीय सचिव राम लखन सिंह, बीकेएम यूके बसंत कुमार राय, एटक के राजेंद्र प्रसाद सिंह, बसंत राम, एचएमएस के खोखा सिंह और खुशीलाल महतो ने संयुक्त रुप से संबोधित करते हुए कहा कि केंद्र सरकार की गलत नीतियों की वजह से देश के मजदूरों और किसानों को पुरजोर शोषण किया जा रहा है, जो बर्दाश्त से बाहर की बात है। सरकारी प्रतिष्ठानों का लगातार निजीकरण किया जा रहा है। कोयला खदानों का निजीकरण को रोका जाए। कोयला खदानों में कमर्शियल माइनिंग को रोका जाए। सीएमपीडीआई को कोल इंडिया से विभाजित करने के प्रस्ताव को वापस लिया जाए। 30 और 50 वर्ष वाले कानून के तहत रिटायरमेंट को रोका जाए। किसानों के खिलाफ जिस बिल का प्रस्ताव पारित किया गया है, उसे अविलंब वापस लिया जाए। धरना प्रदर्शन में शंकर सिंह, खोखा सिंह, राजेंद्र प्रसाद सिंह, खुशीलाल महतो, बलभद्र दास, पप्पू दुबे, कासिम अंसारी, रामलखन सिंह, रविंदर शर्मा, शमसेर आलम, विश्वनाथ महतो, किट्टू सिंह, खुशी लाल महतो, राजेंद्र प्रसाद कुशवाहा, बसंत कुमार राय, रितेश सिंह, सुजीत झा, मनोज महतो, बीएन सिंह, शंकर कुमार सिंह, जलेश्वर महतो, सुशील सिंह, रामाकांत पाठक, मनोज कुमार, संजीत कुमार, देवनारायण कुमार, गिरजा प्रसाद चंद्रशेखर सिंह, रामनाथ यादव सहित सैकड़ों लोग शामिल थे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Demonstration in front of Charli CCL General Manager 39 s office on 12-point demand