ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News झारखंड हज़ारीब़ागअबुआ आवास के लिए लाभुकों से राशि मांगने का ऑडियो वायरल

अबुआ आवास के लिए लाभुकों से राशि मांगने का ऑडियो वायरल

राज्य सरकार गरीबों को रहने के लिए अबुआ आवास योजना की शुरुआत की है । लेकिन इस योजना को धरातल पर उतरने में कई प्रकार की परेशानियां सामने आ रही है...

अबुआ आवास के लिए लाभुकों से राशि मांगने का ऑडियो वायरल
हिन्दुस्तान टीम,हजारीबागThu, 22 Feb 2024 02:00 AM
ऐप पर पढ़ें

हजारीबाग। निज प्रतिनिधि
राज्य सरकार गरीबों को रहने के लिए अबुआ आवास योजना की शुरुआत की है । लेकिन इस योजना को धरातल पर उतरने में कई प्रकार की परेशानियां सामने आ रही है । जिन लाभुकों का चयन अबुआ आवास के लिए हुआ है उनसे बहाने बनाकर पैसे लेने की होड़ मची हुई है। सोमवार को मुख्यमंत्री चंपाई सोरेन द्वारा अबुआ आवास योजना के शुभारंभ के बाद से ही कटकमदाग प्रखंड में लाभुकों पर पैसा वसूली का दबाव पड़ने लगा है। एक ओर जहां झारखंड सचिवालय और हजारीबाग समाहरणालय का फर्जी अधिकारी बनकर फोन कर लाभुकों से पैसा मांगा जा रहा है, वहीं दूसरी ओर मुखिया पति भी इस वसूली अभियान में जुड़ गए हैं। अबुआ आवास की सूची में शामिल लोगों से मुखिया पति फोन कर पैसा मांग रहे हैं । मुखिया पति द्वारा यह भी कहा जा रहा है कि अगर पैसा नहीं दिया तो सूची से नाम कट सकता है। जब लाभुकों ने अपनी बेटी की शादी करने तो कई बीमारी का बात बोलकर इतनी बड़ी रकम देने से इंकार किया तो मुखिया पति ने किस्त में राशि देने की बात कह रहे हैं। मुखिया पति द्वारा कहा जा रहा है कि अगर पहली किस्त लेना है तो कम से कम पांच हजार अभी अविलंब जमा कर दें। इस प्रकार के हरकत से लाभुक अब परेशान नजर आ रहे हैं। लाभुकों का कहना है कि सूची में नाम शामिल करने के नाम पर मुखिया और पंचायत सेवक द्वारा पैसा लिया गया। इसके बाद भी पैसे की मांग की जा रही है। जिले के लगभग सभी प्रखंडों में अबुआ आवास चयन में हो रही अनीयमितता को लेकर लोग नाराजगी व्यक्त कर जनप्रतिनिधि और पदाधिकारी के विरुद्ध धरना प्रदर्शन तक कर रहे हैं। जिले में महिला सशक्तिकरण के लिए महिला जनप्रतिनिधियों को चुना गया लेकिन आज भी वे अपने अधिकार से वंचित हैं और चुने गए महिला के पति शासन कर रहे हैं। बताया जाता है कि केरेडारी प्रखंड के बरियातू पंचायत के मुखिया पति विकास साव एक लाभुकों से अबुआ आवास योजना में खुलेआम रिश्वत मांग रहे हैं। उन्होंने लाभुक को अपने घर बुलाकर ब्लॉक खर्च के नाम पर 10 हजार रूपये की मांग की। जिसका ऑडियो वायरल हुआ है । इस वायरल ऑडियो रिकॉर्डिंग में बारियातू मुखिया पति बिकास साव द्वारा एक लाभुक से फोन पर बोला जा रहा है कि आपका रेकड़ जिओ टैग सब हो गया है। जिओ टैग का पैसा भी जिओ टैग करने के दौरान मिल गया है। अभी कम से कम पांच हजार दे दीजिए तब आपका पहला क़िस्त आ जायेगा नहीं तो आपका नाम सूची से कट जायेगा।

इस मामले में बरियातू मुखिया पति बिकास साव से पूछे पूछे जाने पर बताया कि लाभुक से पहले अच्छा रिश्ता था लेकिन सरस्वती पूजा के समय से तू तू में में हुआ है । वह फंसाने के लिए ऐसा कर रहे हैं। इसमें विरोधियों की भी साजिश है।

विकास साव

मुखिया पति बरियातू पंचायत केरेडारी

मामला संज्ञान में आया है। जांचोपरांत उचित कार्रवाई की जायेगी। योजना पूरी तरह से पारदर्शी है और योजना योग्यता धारी लाभुकों की ही लाभ मिलेगा। इस योजना में किसी तरह का कोई भ्रस्टाचार बर्दास्त नहीं किया जायेगा। इस योजना के नाम पर किसी भी लाभुक से कोई रिश्वत मांगा जाता है तो सीधे मेरे पास शिकायत करें।

अमित कुमार

प्रखंड विकास पदाधिकारी केरेडारी

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें