अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

विभावि में दिखेगा गांधी, जेपी और विनोबा भावे का चिंतन: कुलपति

हजारीबाग की धरती गांधी, विनोबा और जेपी की कर्मभूमि रही है। जब गांधी की चर्चा होती है तब विनोबा जी स्वयं आ जाते हैं। कहा कि विवि में स्थापित चिंतन केंद्र से चिंतन की नई धारा प्रस्फुटित होगी। यह बात विनोबा भावे यूनिवर्सिटी के कुलपति प्रो रमेश शरण ने मंगलवार को आचार्य विनोबा भावे जयंती समारोह में कही। पीजी राजनीति विज्ञान व गांधी, विनोबा, जयप्रकाश चिंतन केंद्र के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित उक्त कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कुलपति ने कहा कि वर्तमान समय में पूरी दुनिया धन के पीछे भाग रही है। ऐसे में संत विनोबा भावे की प्रासंगिकता और भी महत्वपूर्ण हो गई है। भूमि सुधार, भूदान और बंदोबस्ती पर चर्चा करते हुए समाज में हो रहे संघर्ष की वजह भूमि सुधार योजना का असफल होना बताया। उन्होंेने कहा कि हजारीबाग के एक निर्भिक राजनेता ने बिहार में सबसे पहले जमींदारी उन्मूलन का कानून बनाया। जेपी ने हजारीबाग सेंट्रल जेल से ही ब्रिटीश सत्ता को चुनौती दी थी। मौके पर प्रतिकुलपति प्रो कुनुल कंडीर ने कहा कि भूदान एक ऐसा यज्ञ है जो अमीर और गरीब के बीच के फासले को कम करता है। कहा कि पद यात्रा के माध्यम से विनोबा जी ने पूरे देश में क्रांति लाने का काम किया। कुलसचिव डॉ वंशीधर रूखैयार ने कहा कि विनोबा भावे में आर्थिक आंदोलन को नई दिशा दी। दान देने की प्रवृति को इस संत ने व्यवहार के रूप में परिवर्तित कर दिया। आर्थिक आंदोलन के अग्रदूत के रूप में इस संत क पूरे विश्व में पहचान है। डीएसडब्लू डॉ बीपी सिंह ने कहा कि गांधी की आत्मा, विनोबा की आत्मा में विचरण करती है। चिंतन केंद्र के निदेशक डॉ गंगा नाथ झा ने विद्यार्थियों से केंद्र में उपलब्ध पुस्तकों का अध्ययन करने की अपील करते हुए कहा कि वर्धा जाकर पवनार आश्रम देखें। इससे पूर्व विषय प्रवेश डॉ सुकल्याण मोइत्रा, संचालन डॉ प्रमोद कुमार और धन्यवाद ज्ञापन विभागाध्यक्ष डॉ अनुपा देवी ने किया। मौके पर पदाधिकारी, विभागाध्यक्ष, शिक्षक और विद्यार्थी मौजूद थे। इसके बाद केंद्र में बैठ कर कुलपति, प्रतिकुलपति, कुलसचिव, डीएसडब्लू, केंद्र निदेशक समिति अन्य शिक्षकों ने दस मिनट तक ध्यान किया और संत विनोबा भावे के प्रिय प्रर्थाना को सुना।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Vision of Gandhian JP and Vinoba Bhave will appear in the section VC